खोज

Vatican News
धन्य पेर लावाल की समाधि पर प्रार्थना करते हुए संत पापा  फ्राँसिस धन्य पेर लावाल की समाधि पर प्रार्थना करते हुए संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

पेर लावाल की समाधि पर श्रद्धा, राष्ट्रपति से मुलाकात

सन्त पापा फ्रांसिस ने सोमवार को मोरिशस के राष्ट्रपति एवं प्रधान मंत्री से औपचारिक मुलाकातें की तथा राष्ट्र के राजनितिज्ञों, कूटनीतिज्ञों एवं नागर समाज के नेताओं को अपना सन्देश दिया।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

पोर्ट लूईस, सोमवार, 9 सितम्बर 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): सन्त पापा फ्रांसिस ने सोमवार को मोरिशस के राष्ट्रपति एवं प्रधान मंत्री से औपचारिक मुलाकातें की तथा राष्ट्र के राजनितिज्ञों, कूटनीतिज्ञों एवं नागर समाज के नेताओं को अपना सन्देश दिया।

धन्य पेर लावाल

राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकातों से पहले सन्त पापा ने पोर्ट लूईस में पवित्र क्रूस को समर्पित काथलिक गिरजाघर में धन्य पेर लावाल की समाधि पर श्रद्धार्पण किया। धन्य जाक डेज़िरे लावाल का जन्म फ्राँस के एक धन-सम्पन्न परिवार में 1803 ई. में हुआ था। चिकित्सा विज्ञान की पढ़ाई के उपरान्त जाक डेज़िरे पेरे ने ईश्वरीय बुलाहट को सुना तथा सन् 1841 ई. में मोरिशस में प्रेरिताई के लिये रवाना हो गये। जब 1854 से लेकर 1862 तक मोरिशस एवं आस-पड़ोस के द्वीपों पर हैज़े की बामारी का प्रकोप फैला हुआ था पेरे लवाल ने कई अस्पतालों की स्थापना की तथा मोरिशस के निवासियों की जी जान से सेवा की। कठिन परिश्रम और उसके साथ-साथ उपवास एवं परहेज़ की जीवन चर्या के परिणाम स्वरूप, 59 वर्ष की आयु में, पेर लवाल ख़ुद बीमार पड़ गये तथा 1864 ई. में उनका निधन हो गया। 29 अप्रैल सन् 1979 ई. को सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय ने पेर लवाल को धन्य घोषित कर वेदी का सम्मान प्रदान किया था।

राष्ट्रपति एवं प्रधान मंत्री

सोमवार को सन्त पापा फ्राँसिस ने राष्ट्रपति बारलेन व्यापूरी तथा प्रधानमंत्री प्रविन्द कुमार जुगनौथ से अलग-अलग औपचारिक मुलाकातों की और इसके बाद, दिन के दूसरे पहर, मोरिशस के राजनीतिज्ञों, कूटनीतिज्ञों एवं नागर समाज के वरिष्ठ नेताओं को अपना सन्देश दिया।

सन्त पापा फ्राँसिस का अभिवादन करते हुए राष्ट्रपति बारलेन व्यापूरी ने 30 वर्षों पूर्व सम्पन्न सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय की यात्रा का स्मरण दिलाया। 09 सितम्बर को सन्त पापा फ्राँसिस की यात्रा को उन्होंने संयोग निरूपित किया इसलिये कि इसी दिन मोरिशस धन्य पेर लवाल के निधन की 155वीं पुण्य तिथि का समारोह मनाता है। उन्होंने सन्त पापा से कहा, धन्य पेरे लवाल की समाधि पर आपकी भेंट मोरिशस के लोगों के दिलों में एक अनमोल नैतिक प्रभाव छोड़ेगी।    

इसी बीच प्रधानमंत्री जुगनौथ ने सन्त पापा से कहा, हमारे द्वीप में आपकी प्रेरितिक यात्रा सभी धर्मों के अनुयायियों के लिये एक साथ मिलकर जीवन यापन के बारे में जागरुकता का एक सुन्दर अवसर सिद्ध होगी। उन्होंने कहा कि मोरिशस विभिन्न संस्कृतियों एवं विभिन्न धर्मों के प्रवासियों से बना देश है तथा लोगों के बीच परस्पर संवाद इसकी आधार शिला है।  

09 September 2019, 11:31