खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (2019 Getty Images)

ईश्वर की योजना में उनका "हस्ताक्षर है, संत पापा

ईश्वर द्वारा समर्थित कार्य सदा जारी रहता है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी बुधवार 18 सितम्बर 2019 (रेई) : मनुष्य का जीवन तभी सफल होता है जब वह अपनी भौतिक शक्तियों में सीमित न रहकर ईश्वर को अपने जीवनरथ का सारथी बनाता है। जीवन की डोर अपने प्रभु को सौंपकर मनुष्य इस जीवन-संग्राम में विजय प्राप्त कर लेता है। परंतु जो व्यक्ति अपनी शक्तियों को प्रधानता देता और मान सम्मान तथा धन कमाता है उसका सब कुछ क्षणभंगुर है। संत पापा ने 18 सितम्बर को ट्वीट प्रेषित कर मानव परियोजना और ईश्वर की योजना के अंतर को स्पष्ट किया।

संदेश में उन्होंने लिखा, “प्रत्येक मानव परियोजना पहले समर्थन हासिल करती है और फिर धराशायी हो जाती है, परंतु ऊपर से आने वाली हर योजना में ईश्वर का "हस्ताक्षर" रहता है और वह स्थायी होता है।”

18 September 2019, 16:15