खोज

Vatican News
पोप जहाजी अस्पताल पोप जहाजी अस्पताल  

जहाजी अस्पताल, ईशवचन और स्वास्थ्य सेवा का प्रचार, संत पापा

ब्राजील के बेलेम दो पारा महाधर्मप्रांत में जहाजी अस्पताल सेवा की नई शुरूआत पर संत फ्रांसिस ने एक बधाई पत्र प्रेषित किया।

दिलीप संजय एक्का-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी-सोमवार 19 अगस्त 2019 (रेई) ब्राजील के बेलेम दो पारा महाधर्मप्रांत ने अमाजोन प्रांत के लोगों के लिए “पोप फ्रांसिस जहाजी अस्पताल” की शुरूआत करते हुए एक नई प्रेरितिक पहल की है।

इस जहाजी अस्पताल सेवा की शुरूआत होने पर संत पापा ने “ईश्वर के प्रति अपनी कृतज्ञता के भाव” प्रकट करते हुए बधाई पत्र प्रेषित में अपने हृदय के “गहरे संतोष” को अभिव्यक्त किया। उन्होंने कहा, “यह जहाजी सेवा ईश वचन का प्रचार है जिसकी बदौलत जरुरतमंद लोगों को और अधिक स्वास्थ्य सेवा प्रदान की जा सकेगी।”  

ईश्वर के वचनों का प्रतिउत्तर

संत पापा फ्रांसिस ने इस जहाजी सेवा के प्रति अपने संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि वे अमाजोन धर्माध्यक्षीय धर्मसभा के धर्माध्यक्षों के प्रति अपनी कृतज्ञता के भाव प्रकट करते हैं। “ अमाजोन की नदी में यह जहाजी सेवा ईश वचनों का प्रतिउत्तर है जो अपने चेलों को ईश्वर के राज्य की घोषणा करने, बीमारों और रोगियों को चंगा करने हुए प्रेषित करते हैं।” उन्होंने कहा कि “प्रथम प्रेरितिक कार्य” जो इस नये जहाजी अस्पताल के रुप में शुरू होता है येसु ख्रीस्त के द्वारा “जीवन की प्रचुरता” को घोषित करेगा जिसे वे अपने लोगों को देते हैं।

अपने बधाई संबोधित पत्र में संत पापा ने इस बात को रेखांकित किया कि कलीसिया “जमीनी अस्पताल” के रुप में क्रियाशील है जो “बिना भेदभाव किया लोगों का स्वागत” करती है। इस नये पहल के अनुरूप कलीसिया को हम “जल में अस्पताल” सेवा स्वरुप देख सकेंगे।

विश्वास और एकता की निशानी

संत पापा ने कहा, “येसु, जिस प्रकार पानी में चलते, आंधी को शांत करते और अपने शिष्यों के विश्वास को मजबूत करते हैं, उसी भांति यह जहाजी अस्पताल लोगों के जीवन में आध्यात्मिक सुख और शांति स्थापित करने में मददगार सिद्ध होगा जो परित्यक्त अवस्था में अपने को कई रुपों में विचलित पाते हैं।”

"विश्वास के इस सुंदर संकेत और ख्रीस्तीय एकता" के भाव को प्रकट करने वाली इस अनेखी पहल हेतु संत पापा फ्रांसिस ने ओबिडोस (ब्राजील) के धर्माध्यक्ष बर्नार्डो बहलमन और फ्रांसिसकन धर्मसमाज के प्रति अपने धन्यवाद के शब्द व्यक्त किये, जो इस पहल के मुख्य प्रवर्तक हैं।

19 August 2019, 16:50