खोज

Vatican News

आप्रवासी एवं शरणार्थी दिवस की तैयारी में पोप का वीडियो संदेश

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 2 जुलाई 2019 (रेई)˸ संत पापा फ्राँसिस ने आप्रवासियों एवं शरणार्थियों के लिए समर्पित विश्व दिवस की तैयारी हेतु एक वीडियो संदेश प्रकाशित किया। विश्व आप्रवासी एवं शरणार्थी दिवस 29 सितम्बर को मनाया जाता है।

संत पापा ने अपने संदेश में कहा, "सावधान रहो, उन नन्हों में एक को भी तुच्छ न समझो। मैं तुम से कहता हूँ – उनके दूत स्वर्ग में निरंतर मेरे स्वर्गिक पिता के दर्शन करते हैं।" (मती. 18.10)

बहिस्कृत लोगों के प्रति क्रूरता

संत पापा ने कहा, "यह केवल आप्रवासियों के बारे में नहीं है, बल्कि किसी को भी बहिष्कृत नहीं किया जाना चाहिए। आज विश्व दिन प्रतिदिन अधिक संभ्रांतवादी और बहिस्कार करने के लिए अधिक क्रूर होता जा रहा है। विकासशील देशों द्वारा कुछ ही बाजारों के फायदे के लिए प्राकृतिक एवं मानव संसाधनों का दोहन किया जा रहा है।

हशियारों का निर्माण

युद्ध दुनिया के कुछ ही क्षेत्रों को प्रभावित कर रहा है किन्तु हशियारों का निर्माण एवं उसकी बिक्री अन्य क्षेत्रों में भी हो रही है जहाँ लोग शरणार्थियों का स्वागत करना और उनकी देखभाल करना नहीं चाहते हैं। इसके कारण भी तनाव उत्पन्न हो रहा है। कई बार हम शांति की बात करते हैं फिर भी हथियार बेचते रहते हैं। क्या हम इस तरह ढोंग की भाषा में बात कर सकते हैं?" छोटे, गरीब एवं कमजोर लोग ही इसका फल भोगते हैं जिन्हें मेज पर बैठने नहीं दिया जाता और भोज के बचे खाने पर ही निर्भर रहना पड़ता है। (लूक. 16.19-21)

प्रामाणिक और समावेशी विकास

कलीसिया जो बाहर निकलती है निडर होकर उन लोगों की ओर बढ़ना जानती है जो समाज से बहिष्कृत हैं। अत्याधिक विकास धनियों को अधिक धनी किन्तु गरीबों को अधिक गरीब बनाता है। सच्चा विकास वही है जो सभी को साथ लेकर चलता है। जिसका उद्देश्य समग्र विकास होता है। प्रमाणिक विकास समावेशी एवं फलप्रद होता है और वह भविष्य की ओर बढ़ता है।  

02 July 2019, 16:50