Cerca

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

लम्पेदूसा की पहली यात्रा की 6वीं वर्षगांठ पर संत पापा का ट्वीट

काथलिक कलीसिया के परमाध्यक्ष बनने के चार महीने बाद 8 जुलाई 2013 को संत पापा ने लम्पेदूसा का दौरा किया था।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 8 जुलाई 2019 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने लम्पेदूसा की अपनी पहली यात्रा की 6वीं वर्षगांठ पर दो ट्वीट कर सबसे कमजोर और परित्यक्त लोगों के लिए अपनी भावना को प्रकट की।

पहला ट्वीट

पहले ट्वीट में संत पापा ने लिखा, “लम्पेदूसा की यात्रा की इस छठी वर्षगांठ पर, मेरे विचार उन "नगन्य" लोगों तक पहुँचती है, जो अपनी कठिनाइयों से उबरने और बुराइयों से मुक्त होने के लिए रोजाना ईश्वर से दुहाई करते हैं।”

दूसरा ट्वीट

संत पापा ने लम्पेदूसा की यात्रा की इस छठी वर्षगांठ पर संत पेत्रुस महागिरजाघर में प्रवासियों और उनके लिए कार्य करने वाले संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान किया। अपने प्रवचन को ध्यान में रखते हुए संत पापा ने दूसरे  ट्वीट में लिखा, "यह केवल प्रवासियों के बारे में नहीं है", बल्कि इसका दोहरा अर्थ है, पहला, प्रवासी सभी मानव व्यक्तियों में से एक हैं, और दूसरा कि वे आज के वैश्विक समाज द्वारा खारिज किए गए सभी लोगों के प्रतीक हैं।”

रविवार 7 जुलाई का ट्वीट

काथलिक पंचाग अनुसार काथलिक कलीसिया रविवार 7 जुलाई को वर्ष का चौदहवाँ रविवार मनाती है। इस दिन की युखारीस्तीय समारोह के लिए संत लूकस के सुसमाचार के उस भाग को लिया गया था जहाँ येसु ने दो-दो करके अपने 72 चेलों को सुसमाचार का प्रचार करने भेजा। चेलों ने अपने मिशन के दौरान अचरज कार्यों के बारे बताते हुए अपनी खुशी का इजहार किया। इसपर येसु ने सच्ची खुशी के बारे चेलों को समझाया। इस तथ्य को कर संत पापा ने ट्वीट कर सच्ची खुशी हासिल करने हेतु प्रेरित किया।

संदेश में उन्होंने लिखा, “आज के सुसमाचार में येसु अपने चेलों को सच्चे आनंद के बारे बताते हैं। वे कहते हैं, “तुम सब आनंद मनाओ क्योंकि तुम्हारा नाम स्वर्ग में लिखा गया है,”  (लूक10, 20) वह यह है, कि आपका नाम पिता ईश्वर के हृदय में लिखा गया है।”  

08 July 2019, 16:56