खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (ANSA)

जीवन की चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रभु का आशीर्वचन

“धन्य हो तुम, जब लोग मेरे कारण तुम्हारा अपमान करते और अत्याचार करते हैं...खुश हो और आनंद मनाओ स्वर्ग में तुम्हें महान पुरस्कार प्राप्त होगा।” मत्ती 5,11

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 22 जून 2019 (रेई) :  संत मत्ती के सुसमाचार अध्याय 5, पद संख्या 3 से 11 तक में हम प्रभु येसु के पर्वत प्रवचन या आशीर्वचन को पढ़ते हैं जिसमें प्रभु येसु विशाल जनसमूह को शिक्षा देते हैं। ये लोग गलीलिया के साधारण, दीन-हीन लोग थे जो येसु की बातों को सुनने हेतु जमा हुए थे। संत पापा ने ट्वीट प्रेषित कर सभी ख्रीस्तियों को आशीर्वचन को जीने हेतु प्रेरित किया।

संदेश में उन्होंने लिखा, “येसु का आशीर्वचन सुपरमैन के लिए नहीं है, बल्कि उन लोगों के लिए है जो हर दिन की चुनौतियों और परीक्षणों का सामना करते हैं।”

22 June 2019, 15:37