Cerca

Vatican News
रोम में स्वास्थ्य कार्यकर्त्ताओं के साथ सन्त पापा फ्राँसिस 16.11.2018 रोम में स्वास्थ्य कार्यकर्त्ताओं के साथ सन्त पापा फ्राँसिस 16.11.2018  (ANSA)

स्वास्थ्य कार्यकर्त्ताओं को सन्त पापा फ्राँसिस ने किया सम्बोधित

वाटिकन में सन्त पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को काथलिक स्वास्थ्य कार्यकर्त्ता संगठन के प्रतिनिधियों को सम्बोधित कर उनसे आग्रह किया कि अपने कार्यों में वे जीवन के नैतिक मूल्यों पर विशेषकर ध्यान दें।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 17 मई 2019 (रेई,वाटिकन रेडियो): वाटिकन में सन्त पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को काथलिक स्वास्थ्य कार्यकर्त्ता संगठन के प्रतिनिधियों को सम्बोधित कर उनसे आग्रह किया कि अपने कार्यों में वे जीवन के नैतिक मूल्यों पर विशेषकर ध्यान दें।   

स्वास्थ्य कार्यकर्त्ताओं के प्रतिनिधियों से सन्त पापा फ्राँसिस ने कहा, "जीवन की रक्षा के इरादे से काम करनेवालों के साथ साक्षात्कार करने के लिये मैं अत्यधिक प्रसन्न हूँ, इसलिये कि आप रक्षाविहीन, बुज़ुर्ग, बीमार और हाशिये पर जीवन यापन करनेवालों की सहायता कर अपूर्णीय सेवा प्रदान करते हैं।"  

नैतिक समस्याओं को दरकिनार न करें

उन्होंने इस तथ्य के प्रति सचेत कराया कि हालांकि हाल के दशकों में, स्वास्थ्य और देखभाल की प्रणाली मौलिक रूप से बदली है, चिकित्सा को समझने के तौर तरीकों एवं रोगी के साथ सम्बन्ध में भूतपूर्व बदलाव आया है, प्रौद्योगिकी ने सनसनीखेज और अप्रत्याशित लक्ष्यों तक पहुंच बनाई है तथा निदान एवं उपचार की नई तकनीकियों का मार्ग प्रशस्त किया है, तथापि, कभी–कभी इसके साथ जुड़ी नैतिक समस्याओं को दरकिनार कर दिया जाता है।  

चिकित्सा पद्धति का मूल्यांकन ज़रूरी

सन्त पापा ने कहा, "वस्तुतः, कई लोग मानते हैं कि नवीन तकनीकियों द्वारा पेश की जाने वाली कोई भी संभावना, अपने आप में, नैतिक रूप से व्यवहार्य है, जबकि सच तो यह है कि यदि वास्तव में, मानव जीवन और गरिमा का सम्मान करना है तो, मानव व्यक्ति पर किसी भी चिकित्सा पद्धति या हस्तक्षेप का पहले सावधानीपूर्वक मूल्यांकन किया जाना चाहिए।"

सन्त पापा ने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों एवं चिकित्सकों का दायित्व है कि वे बीमारों का इलाज मानवीय दृष्टि से करें तथा रोगियों के मानवीय आयाम का सम्मान करते हुए उनका इलाज करें। बीमार व्यक्ति को वे केवल एक संख्या नहीं मानें बल्कि मानव प्रतिष्ठा और गरिमा को ध्यान में रखकर अपना कार्य सम्पादित करें।  

17 May 2019, 11:58