खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस खिलाड़ियों के साथ संत पापा फ्राँसिस खिलाड़ियों के साथ 

फुटबॉल फेडरेशन के सदस्यों को सन्त पापा फ्राँसिस

सन्त पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को इताली फुटबॉल फेडरेशन के सदस्यों को सम्बोधित करते हुए कहा कि खेलों का विशेष लक्ष्य मनोरंजन के साथ-साथ स्वस्थ प्रतियोगिता एवं मूल्यों का परस्पर आदान-प्रदान होना चाहिये।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 24 मई 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो):  सन्त पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को इताली फुटबॉल फेडरेशन के सदस्यों को सम्बोधित करते हुए कहा कि खेलों का विशेष लक्ष्य मनोरंजन के साथ-साथ स्वस्थ प्रतियोगिता एवं मूल्यों का परस्पर आदान-प्रदान होना चाहिये।

खेल से निर्मित होता व्यक्तित्व

सन्त पापा ने कहा कि फुटबॉल खेल को बढ़ावा देनेवालों को देखकर उनके मन में जिमखानों, खेल मैदानों एवं युवाओं के मनोरंजन स्थलों के अविष्कारक सन्त जॉन बॉस्को के शब्द आ जाते हैं जो कहा करते थेः "आप यदि किशोरों को आकर्षित करना चाहते हैं तो हवा में एक बॉल फेंकिये और देखिये कि उसके धरती पर गिरने से पहले ही वहाँ कितने जमा हो जाते हैं।"

सन्त पापा ने कहा, "हम कह सकते हैं कि एक घूमती हुई बॉल के पीछे प्रायः एक लड़का हुआ करता है जिसके शरीर और आत्मा सहित, अपने सपने हैं, आकांक्षाएँ हैं।" उन्होंने कहा कि शारीरिक गतिविधियों में लड़कों की मांसपेशियाँ ही शामिल नहीं होती हैं, बल्कि उसके सभी आयामों के साथ उनका सम्पूर्ण व्यक्तित्व समाहित रहता है।

खेल जीवन की शिक्षा

सन्त पापा ने कहा कि खेल, बलिदान और प्रतिबद्धता के साथ, स्वतः के अर्पण और देने की भावना को सीखने का एक शानदार अवसर है, सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह कि यह अकेले नहीं अपितु अन्यों के साथ मिलकर खेलना सिखाता है। उन्होंने कहा कि नवीन तकनीकियों की दुनिया में जहाँ लगभग सभी अपनी-अपनी दुनिया में जीते हैं खेल अपने साथियों के साथ मिलकर खेलने का महान अवसर प्रदान करता है। खेल वास्तविक जगत से हमारा साक्षात्कार कराता तथा खिलाड़ियों के बीच मैत्री को बढ़ावा देता है।   

24 May 2019, 12:03