खोज

Vatican News
विदेशी प्रेस संघ के सदस्यों  के साथ संत पापा फ्राँसिस विदेशी प्रेस संघ के सदस्यों के साथ संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

इटली में विदेशी प्रेस संघ को संत पापा का संबोधन

संत पापा फ्राँसिस ने इटली में विदेशी प्रेस एसोसिएशन के प्रतिनिधियों से मुलाकात कर सत्य की खोज में उनके बहुत बड़े योगदान की सराहना की और सच्चाई और न्याय के अनुसार काम करने का आग्रह किया ताकि संचार वास्तव में निर्माण करने वाला हो, न कि नष्ट करने वाला।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 18 मई 2019 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार 18 मई को वाटिकन के संत क्लेमेंटीन सभागार में इटली में विदेशी प्रेस संघ के करीब 400 प्रतिनिधियों से मुलाकात कर उनके कार्यो की सराहना की।

संत पापा ने खुशी के साथ उनका स्वागत कर नये अध्यक्ष श्रीमती पैट्रीसिया थॉमस को उनके परिचय भाषण और संघ की जानकारी हेतु धन्यवाद दिया। संत पापा ने उनके महत्वपूर्ण कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि कलीसिया आपका सम्मान करती है जब आप कलीसिया के समुदायों के घावों को उजागार करते हैं। सत्य की खोज में आपका बहुत बड़ा योगदान है और केवल सत्य ही हमें स्वतंत्र करता है। संत पापा फ्राँसिस ने उस बात को दोहराया जिसे 31 साल पहले संत पापा जॉन पॉल द्वितीय ने संघ के मुख्यालय का दौरा कर कहा था, "कलीसिया आपकी तरफ है। आप ख्रीस्तीय हों या गैर-ख्रीस्तीय, कलीसिया में आपको हमेशा आपके काम और प्रेस की स्वतंत्रता की मान्यता के लिए सही सम्मान मिलेगा।

सही भाषा का प्रयोग

संत पापा ने कहा, “आपकी एक अनिवार्य भूमिका है और यह आपको एक बड़ी जिम्मेदारी भी देता है। यह आपके लेखों में आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले शब्दों के लिए एक विशेष देखभाल की मांग करता है, जिसे आप सोशल मीडिया पर साझा करते हैं। आज मैं आपको प्रेरणा को कुछ शब्द कहना चाहता हूँ जो डिजिटल युग में हर किसी पर लागू होता है, संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने भी कहा था , कभी-कभी "मास मीडिया हमें “दर्शक" बनाता है, जैसे कि बुराई केवल दूसरों से संबंधित है और कुछ चीजें हमारे साथ कभी नहीं हो सकती है। परंतु हम सभी "अभिनेता" हैं और हमारे अच्छे व्यवहारों के साथ-साथ, हमारी बुराई का प्रभाव दूसरों पर पड़ता है "(पियाज़ा दी स्पान्या में भाषण, 8 दिसंबर 2009)। इसलिए मैं आपसे सच्चाई और न्याय के अनुसार काम करने का आग्रह करता हूँ, ताकि संचार वास्तव में निर्माण करने वाला हो, न कि नष्ट करने वाला। संचार आपस में मिलाये न कि घृणा या संघर्ष कराये, संचार द्वारा गलतफमियों को दूर किया जाए और शांति के साथ वार्ता को स्थान मिले। आप आवाजहीनों की आवाज बनें।  

संत पापा ने कहा कि एक स्वतंत्र पत्रकार विनम्र होता है। वह समझौतों से मुक्त, पूर्वाग्रहों से मुक्त और साहसी होता है। ऐसे समय में जब कई लोग फर्जी खबरें फैला रहे हैं, “विनम्रता आपको गलत सूचनाओं के सड़े हुए भोजन को बेचने से रोकती है और सच्चाई की अच्छी रोटी पेश करने के लिए आमंत्रित करती है।" स्वतंत्रता के लिए साहस चाहिए!

पीड़ितों का साथ

संत पापा ने अध्यक्ष महोदया द्वारा बताये गये कार्य के दौरान मारे गये पत्रकारों के आंकड़ों को रेखांकित करते हुए कहा,“मैंने कई देशों में साहस और समर्पण के साथ अपना काम करते हुए मारे गए अपने सहयोगियों की दर्द भरी बातें सुनी। प्रेस और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता देश के स्वास्थ्य की स्थिति का एक महत्वपूर्ण संकेतक है। “हमें एक स्वतंत्र पत्रकारिता की आवश्यकता है, सत्य की सेवा में, एक सही पत्रकारिता मुलाकात की संस्कृति का निर्माण करने में मदद करती है।” (संत पापा, ट्वीट, 3 मई 2019)। हमें ऐसे पत्रकारों की जरूरत है जो पीड़ितों और सताये गये लोगों का साथ दें और उनकी आवाज बनें। आपके कामों को उचित स्वीकृति न मिले तो भी आपका कार्य दुःख की कई स्थितियों को न भूलने में मदद करता और सत्य को सामने लाने हेतु प्रेरित करता है।

अपने संबोधन के अंत में, संत पापा फ्राँसिस ने पत्रकारों को एक पुस्तक "कमूनिकारे इल बेने" (अच्छी बातों का संचार) की एक प्रति भेंट की, जिसमें पत्रकारों के विभिन्न समूहों से उनकी बातचीत और विश्व संचार दिवस पर उनके संदेश शामिल थे।

 संत पापा ने पुनः उनके साहसपूर्ण कार्यों के लिए धन्यवाद देते हुए उन्हें अपना आशीर्वाद दिया।

18 May 2019, 16:02