Cerca

Vatican News
विस्कोन्ती हाई स्कूल के विद्याथियों को संबोधित करते हुए संत पापा विस्कोन्ती हाई स्कूल के विद्याथियों को संबोधित करते हुए संत पापा  

विस्कोन्ती हाई स्कूल के विद्याथियों को संत पापा का संदेश

संत पापा फ्राँसिस रोम के हाई स्कूल के छात्रों और शिक्षकों से मुलाकात कर उन्हें जुनून और जिज्ञासा पैदा करने के लिए प्रोत्साहित करते हुए मोबाइल फोन पर अत्यधिक निर्भरता के खिलाफ चेतावनी दी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 13 अप्रैल 2019 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार को वाटिकन के संत पापा पॉल छठे सभागार में रोम स्थित विस्कोन्ती हाई स्कूल के शिक्षकों विद्याथियों और उनके परिवार के सदस्यों से मुलाकात की।

संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "जीवन संचार के लिए है! और फोन एक दूसरे से जोड़ने के लिए है।” संत पापा ने जब विद्यार्थियों का ध्यान वर्तमान डिजिटल दुनिया की ओर खींचा तो पूरा सभागार तालियों की गड़गड़ाहट से गूँज उठा। उन्होंने कहा कि वे अच्छे और उपयोगी उपकरण हैं, लेकिन सही तरीके से उपयोग किया जाना चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी, "मोबाइल फोन की लत से खुद को मुक्त करें।"

अपनी बात जारी रखते हुए संत पापा ने कहा, “हर एक को पता होना चाहिए कि इसका उपयोग कैसे करें, "लेकिन जब आप अपने मोबाइल फोन के गुलाम बन जाते हैं, तो आप अपनी स्वतंत्रता खो देते हैं।"

मुलाकात की संस्कृति को बढ़ावा

संत पापा ने कहा कि स्कूलों में उचित शिक्षा पाना हर एक का मूल अधिकार है। स्कूल ऐसा स्थान होना चाहिए जहां समावेश की संस्कृति और विविधता के सम्मान को बढ़ावा मिले। स्कूल एक प्रयोगशाला होना चाहिए जो सामूहिकता के भविष्य की तैयारी करता है।

संत पापा ने कहा, “कृपया विविधता से न डरें। विभिन्न संस्कृतियों के बीच संवाद देश को समृद्ध करता है, हमारी मातृभूमि को समृद्ध करता है: यह हमें एक ऐसे भविष्य की ओर देखना सिखाता है, जिसमें सभी के लिए जगह और घर है, न कि कुछ के लिए।”

रोब जमाना

संत पापा ने छात्रों की बदमाशी को गौर किया जो कई स्कूल के वातावरण में एक समस्या है।

संत पापा ने कहा, "कुछ स्कूलों में छात्रों को बदमाशी करते हुए देखता हूँ तो यह मुझे बहुत परेशान करता है।" उन्होंने कहा कि छात्रों दवारा अपने ही सहपाठियों पर रोब जमाना, उन्हें परेशान करना, उन्हें नीचा दिखाना स्कूल के वातारण को गंदा करता है। इस तरह की बदमाशी युद्ध का बीज है।

अंत में, उन्होंने उपस्थित युवाओं से आग्रह किया कि वे "कभी भी बड़े सपने देखना बंद न करें और सभी के लिए एक बेहतर दुनिया की उम्मीद करें।" रिश्तों में मध्यस्थता के लिए समझौता न करें, अपने भविष्य की योजना बनाने में और अधिक सुंदर दुनिया बनाने में अपनी प्रतिबद्धता को कायम रखें।”

पवित्र सप्ताह

संत पापा ने उन्हें याद दिलाया, “कल पवित्र सप्ताह की शुरुआत है, जिसका समापन मसीह के पुनरुत्थान के साथ होता है, जो ख्रीस्तीय आशा की नींव है, "यह आत्मा के लिए नवीकरण का समय भी है, जो लोग प्रभु में विश्वास के साथ ऐसा करते हैं, उन्हें आमंत्रित करते हैं तो जीवित प्रभु हमें हमारी यात्रा की हर कठिनाइयों का सामना करने की शक्ति और साहस देता है।”

13 April 2019, 17:06