Cerca

Vatican News
राष्ट्रीय खेल प्रेमी लीग के प्रतिनिधियों के साथ संत पापा फ्राँसिस राष्ट्रीय खेल प्रेमी लीग के प्रतिनिधियों के साथ संत पापा फ्राँसिस 

खेल प्रेमियों से संत पापा,“जीवन में स्पष्ट लक्ष्य रखें”

इटली फुटबॉल के लिए राष्ट्रीय खेल प्रेमी लीग के शैक्षिक और औपचारिक काम "प्रशंसा और प्रोत्साहित किए जाने के योग्य हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार, 15 अप्रैल 2019 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने वाटिकन के क्लेमेंटीन सभागार में इटली के राष्ट्रीय खेल प्रेमी लीग की स्थापना के 16वीं वर्षगांठ पर करीब 120 प्रतिनिधियों से मुलाकात की। लीग में 12,000 से अधिक फुटबॉल प्रेमियों के क्लब आते हैं, जिसमें एक लाख से अधिक युवा सदस्य "फुटबॉल के लिए एक महान जुनून" के साथ एकजुट होते हैं।

संत पापा ने कहा, “आज की दुनिया, "अपने तीव्र परिवर्तनों और चुनौतियों के साथ" हम सभी को, विशेष रूप से युवाओं को प्रभावित करती है। हालांकि हम हमेशा से आगे बढ़ रहे हैं, लेकिन अक्सर ऐसा लगता है कि हमारा कोई स्पष्ट लक्ष्य नहीं है। "हमें हमेशा उन लक्ष्यों को स्पष्ट करने का प्रयास करना चाहिए जो हमें खुद को ऊपर उठाने और कड़ी मेहनत करने के लिए और हमेशा लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए आगे बढ़ने हेतु प्रेरित करते हैं।"

स्वस्थ प्रतिस्पर्धा 

संत पापा ने कहा कि खेल में सफल होने के लिए न केवल प्राकृतिक क्षमता की आवश्यकता होती है, बल्कि "प्रशिक्षण और दृढ़ संकल्प, महान धैर्य, हार मानने की क्षमता, टीम भावना और दूसरों के साथ सहयोग करने की क्षमता, साथ ही साथ हर्षित होने और खुश रहने की क्षमता" पर भी निर्भर करता है।। संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि ‘प्रेमी’ शब्द अंग्रेजी शब्द "अमातेयुर" की व्युत्पत्ति,  लैटिन के "एमेटर", या प्रेमी से आती है।) भले ही आप एक दिन पेशेवर खिलाड़ी बनें,  "आप खेल प्रेमियों को हमेशा याद रखनी चाहिए, कि खुशी ही खेल की आत्मा है।” उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि वे जीतने या प्रतिभागियों का अपमान करने की आवश्यकता महसूस करते हैं, तो वे अपनी खुशी खो देते हैं, "इसका मतलब है कि उन्होंने खेलना बंद कर दिया है और उस स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को छोड़ दिया है" जो खेल की सबसे "प्रामाणिक भावना" है।

एकजुटता की भावना 

संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "यहां आपके लिए मेरा उद्बोधन है, आप अपने भीतर खेलने की खुशी को संरक्षित करें और इसे उन लोगों में फैलाएं जो आपको देखते हैं या आपके लिए खुश हैं।" उन्होंने कहा कि वे खेल कैसे खेलते हैं, यह दूसरों के लिए अच्छा या बुरा, उदाहरण होगा।

उन्होंने उन्हें एकजुटता की भावना अपनाने, उन लोगों तक पहुंचने के लिए प्रोत्साहित किया, जो गिर चुके हैं या बेईमानी से भाग ले रहे हैं और उन लोगों को दरकिनार नहीं करना चाहिए जो खेल में उतने अच्छे नहीं हैं। एकजुटता की इस भावना का मतलब है, यह समझना कि समाज में, हम तभी जीत सकते हैं जब हम एक साथ काम करेंगे और अगर हम उन लोगों को किनारे ही रहने की अनुमति देते हैं जो कमजोर हैं, तो हम सभी खेल हार सकते हैं। संत पापा फ्राँसिस ने कहा, यह "एकजुटता की मानसिकता", "सांस्कृतिक परिवर्तन की क्रांति" में योगदान करेगी, जिसकी हमें आशा है।

संत पापा ने युवा खिलाड़ियों के लिए प्रोत्साहन के दो शब्द के साथ, अपना संदेश समाप्त किया, “जीवन में अपने वास्तविक लक्ष्यों के बारे में हमेशा स्पष्ट रहें तो आप बेहतर, अधिक वफादार और बहुतों के दोस्त बन सकते हैं।”  

15 April 2019, 15:54