खोज

Vatican News
संत क्रिसपीनो पल्ली में पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान करते हुए संत पापा संत क्रिसपीनो पल्ली में पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान करते हुए संत पापा  (AFP or licensors)

संत पापा द्वारा वितेरबो के संत क्रिसपीनो पल्ली का दौरा

संत पापा फ्राँसिस ने रोम के वितेरबो, संत क्रिसपीनो पल्ली का दौरा किया और पल्ली वासियों के साथ मिलकर पवित्र यूखरिस्तीय समारोह का अनुष्ठान किया। विश्वासियों की व्यापक भागीदारी को सुविधाजनक बनाने के लिए, गिरजाघऱ के बाहर एक बड़े स्क्रीन का इन्तजाम था।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रोम, सोमवार 4 मार्च 2019 (वाटिकन न्यूज):  संत पापा फ्राँसिस ने रविवार, 3 मार्च को वाटिकन से करीब 3.30 बजे अपराहन अपने वाहन से रोम स्थित वितेरबो के लिए रवाना हुए। संत पापा फ्राँसिस का स्वागत रोम धर्मप्रांत के विकर जेनरल  कार्डिनल अंजेलो दे दोनातीस, रोम उत्तरी क्षेत्र के सहायक धर्माध्यक्ष गुएरिनो दि तोरा, पल्ली पुरोहित लुचियानो कच्चामानी और सहायक पल्ली पुरोहित डोन एंड्रिया लामोनका ने की।

संत पापा फ्राँसिस ने पल्ली समुदाय के पुरोहितों से मुलाकात की। पल्ली के बच्चों, हाल ही में दृढ़करण संस्कार प्राप्त युवाओं, पल्ली द्वारा देखभाल किये जाने वाले गरीब और बेघर लोगों और बीमारों के साथ अलग-अलग मुलाकात की। संत पापा ने कुछ पल्लीवासियों को पापस्वीकार संस्कार भी दिया।

पवित्र मिस्सा

विभिन्न समूहों से मिलने के बाद संत पापा ने विश्वासियों के लिए पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान किया। संत पापा ने संत लूकस के सुसमाचार पाठ के दृष्टांतों में से एक पर अपने प्रवचन को केंद्रित किया। “जब तुम्हें अपनी आँख की धरन का पता नहीं, तो तुम अपने भाई की आँखों का तिनका क्यों देखते हो?... ” संत पापा ने कहा कि येसु हमें इस दृष्टांत द्वारा दूसरों की गलती और दूसरों की आलोचना करने के बदले खुद की गलती देखने की सीख देते हैं।

दूसरों के दोषों को देखने में विशिष्टता 

संत पापा ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि हम सभी में कमजोरियाँ हैं, हम सभी गलतियाँ करते हैं पर अपनी गलती हमें दिखाई नहीं देती पर आसानी से हम दूसरों की छोटी गलती को भी बखूबी देख लेते हैं। संत पापा ने मजाक करते हुए कहा कि हममें से हर कोई इसमें विशिष्टता प्राप्त की है। दूसरों की निंदा करना और उन्हें अपराधी ठहराना कोई नई बात नहीं है, लेकिन यह बहुत ही बुरी बात है और येसु ने इस तरह के लोगों के लिए कड़े शब्दों का इस्तेमाल किया है। उन्हें पाखंडी कहा है। पाखंडी "वह है जिसके पास दोहरा विचार है और देखने का एक दोहरा तरीका है। येसु इस तरह के पाखंड से बचने को कहा है। उन्होंने अपने स्वयं के दोषों को देखने और "दूसरों के साथ शांति से रहने" का सुझाव दिया। संत पापा ने कहा कि गपशप करना वास्तव में खतरनाक है। हम दूसरों की आलोचना करने का आनंद लेते हैं पर हमारे व्यर्थ के गपशप से हम खुद अपनी और दूसरों की क्षति करते हैं। संत पापा ने कहा कि हमारी जीभ परमाणु बम की तरह नष्ट करने की शक्ति रखती है। यह बहुत शक्तिशाली है। अपनी जीभ को वश में न रखने की वजह से कई तरह के झगड़े और दुश्मनी शुरु हो जाती है। अतः संत पापा ने कहा,“हम किसी के पीठ पीछे नहीं परंतु उनके सामने बोलने की हिम्मत होनी चाहिए जिससे कि वह अपनी गलती से अवगत हो सके और उसे सुधार सके। वास्तव में, बकवास कुछ भी नहीं हल करता है,बल्कि चीजों को बदतर बनाता है और आपको युद्ध की ओर ले जाता है।”

चालीसा के लिए प्रतिबद्धता

संत पापा ने कहा कि हम सब चालीसा के पुण्य काल में जल्द ही प्रवेश करेंगे।  यह काल अपने जीवन पर मनन चिंतन करते हुए अपने आप को बदलने का विशेष अवसर है। इसको लिए हमें दो बातों की जरुरत है पहला प्रार्थना करना, अपने लिए और जो दूसरों की आलोचना करते हैं, और दूसरी बात है कि हम गपशप करने से बचें। दूसरों की आलोचना करने से बचने के लिए अपनी जीभ को काटें। हम अपने आप की जाँच करें अपने पाखंडपन को दूर करें। दूसरों की आलोचना करने से बचें तभी हम येसु के पुनरुत्थान की खुशी का अनुभव कर पायेंगे।

04 March 2019, 16:21