खोज

Vatican News
बंगुई में, बच्चों के लिए विस्तार किया गया नया स्वास्थ्य केंद्र बंगुई में, बच्चों के लिए विस्तार किया गया नया स्वास्थ्य केंद्र  

रोगियों की सेवा करने वाले ख्रीस्त की सेवा करते हैं, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने मध्य अफ्रीका के बंगुई में, बच्चों के लिए विस्तार किये गये नये स्वास्थ्य केंद्र के उद्घाटन पर एक विडीयो संदेश प्रेषित कर शुभकामनाएँ दी।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

बाल स्वास्थ्य केंद्र का विस्तार जेसु बम्बिनो बाल चिकित्सा अस्पताल की मदद के लिए किया गया है जिसको परमधर्मपीठ की सहायता से निर्मित किया गया है।

संत पापा ने विडीयो संदेश में कहा, "मैं आशा करता हूँ कि यह एक उत्तम केंद्र बने जहाँ बच्चे कोमलता एवं स्नेह के साथ अपने दुःखों से छुटकारा पा सकें। मैं इस देश में प्रेरितिक यात्रा के दौरान अस्पताल का दौरा करते हुए कुपोषण के शिकार बच्चों की पीड़ित नजरों को नहीं भूला हूँ। उस डॉक्टर के शब्दों को याद करता हूँ जो मेरे बगल में कह रहा था, "इनमें से अधिकतर बच्चे मर जायेंगे, क्योंकि इन्हें मलेरिया हो गया है और ये कुपोषण के शिकार हैं।" संत पापा ने कहा कि मैंने उनकी बात सुनी और मुझे लगा कि ऐसा नहीं होना चाहिए। बच्चों पर बीत रही पीड़ा अस्वीकार्य थी। मैंने कई बार अपने आप से पूछा कि बच्चे क्यों दुःख सहते हैं? और मैं इसका उत्तर नहीं पा सका। इस बड़े दुःख के लिए मैं सिर्फ क्रूसित येसु की ओर देख रहा और पिता के करुणावान प्रेम की याचना की जो हमें बहुत प्यार करते हैं।   

बंगुई पिता की दया का आध्यात्मिक केंद्र

संत पापा ने कहा कि जिस केंद्र का उद्घाटन आज किया गया है वह दया का एक ठोस चिन्ह है जिसकी शुरूआत मैंने बंगुई में 29 नवम्बर 2015 को पवित्र द्वार को खोलते हुए किया था। पवित्र द्वार सबसे पहले बंगुई में खोला गया था, न कि संत पेत्रुस महागिरजाघर में। यह एक ऐसा चिन्ह है जिसको प्रभु ने प्रेरित किया था। पवित्र द्वार में प्रवेश करते हुए मैंने प्रार्थना की थी कि बंगुई पिता ईश्वर की दया का आध्यात्मिक केंद्र बने। हम उनसे शांति, दया, मेल मिलाप, क्षमाशीलता एवं प्रेम की याचना करते हैं। मैं कामना करता हूँ कि पवित्र द्वार अभी भी खुला हो तथा करुणा की नदी इस बाल चिकित्सा अस्पताल एवं वहाँ काम करने वाले सभी लोगों को जीवन प्रदान करता रहे।

कोमलता के ठोस चिन्ह

संत पापा ने कहा, हमेशा याद रखें कि निम्न, निराश्रय, एकाकी और परित्यक्त लोगों के लिए अच्छाई एवं कोमलता के कई ठोस चिन्ह हैं।  

संत पापा ने अस्पताल में सेवा देने वालों को प्रोत्साहन देते हुए कहा कि वे सुसमाचार के भले समारी की तरह, बच्चों की देखभाल करने के कार्य को जारी रखें। उन्होंने कहा कि बीमार व्यक्ति में ख्रीस्त उपस्थित रहते हैं तथा उनकी सेवा में जो व्यक्ति झुकता है वह ख्रीस्त से मुलाकात करता है।

02 March 2019, 15:07