खोज

Vatican News
संयुक्त अरब अमीरात में सन्त पापा फ्राँसिस की प्रतीक्षा संयुक्त अरब अमीरात में सन्त पापा फ्राँसिस की प्रतीक्षा  (AFP or licensors)

सन्त पापा फ्राँसिस के दर्शन हेतु यूएई में छुट्टी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 1 फरवरी 2019 (रेई,वाटिकन रेडियो): आबू धाबी में पाँच फरवरी को ज़ायद स्पोर्ट्स सिटी स्टेडियम में आयोजित ख्रीस्तयाग समारोह में शरीक होनेवालों के लिये यूएई की सरकार ने अवकाश की घोषणा की है। रविवार, 03 फरवरी से मंगलवार 05 फरवरी तक विश्वव्यापी काथलिक कलीसिया के परमधर्मगुरु सन्त पापा फ्राँसिस संयुक्त अरब अमीरात की प्रेरितिक यात्रा पर जा रहे हैं।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शुक्रवार, 1 फरवरी 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): आबू धाबी में पाँच फरवरी को ज़ायद स्पोर्ट्स सिटी स्टेडियम में आयोजित ख्रीस्तयाग समारोह में शरीक होनेवालों के लिये यूएई की सरकार ने अवकाश की घोषणा की है.

रविवार, 03 फरवरी से मंगलवार 05 फरवरी तक विश्वव्यापी काथलिक कलीसिया के परमधर्मगुरु सन्त पापा फ्राँसिस संयुक्त अरब अमीरात की प्रेरितिक यात्रा पर जा रहे हैं.

2019 सहिष्णुता वर्ष

यूएई के मानव संसाधन मंत्रालय ने आबू धाबी के ख्रीस्तयाग समारोह के उपलक्ष्य में अवकाश की प्रकाशना करते हुए अन्तरधर्म सम्वाद को बढ़ावा देने हेतु संयुक्त अरब अमीरात के समर्पण को रेखांकित किया तथा बताया कि 2019 को यूएई में सहिष्णुता वर्ष घोषित किया गया है.

अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के आला कमान के उपाध्यक्ष शेख्मद बिन जायद अल नाहयान के आमंत्रण पर सन्त पापा फ्राँसिस संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा कर रहे हैं.

03 से 05 फरवरी तक अपनी यात्रा के दौरान के सन्त पापा मानव बिरादरी पर अंतर्राष्ट्रीय अन्तरधार्मिक बैठक में भी भाग लेंगे.

ख्रीस्तयाग के लिये 1,35,000 टिकट वितरित

अरब न्यूज़ के अनुसार, 05 फरवरी के ऐतिहासिक ख्रीस्तयाग समारोह के लिये आबू धाबी की विभिन्न काथलिक पल्लियों में कम से कम 1,35000 टिकट वितरित किया जा चुके हैं और अभी भी गिरजाघरों के बाहर टिकट लेने के लिये लोगों की लम्बी-लम्बी क़तारें लगी हैं . संयुक्त राज्य अमीरात में लगभग लस लाख काथलिक निवास करते हैं.   

संयुक्त अरब अमीरात के अन्तर्गत आबू धाबी के अलावा शारजाह, दुबई, उम्म अल कुवैन, अजमान, फुजइराह तथा रस अल खैमा शामिल हैं. यहाँ की जनसंख्या लगभग एक करोड़ है जिनमें केवल 19 प्रतिशत लोग अमीरात के मूल निवासी जबकि सभी अन्य नौकरियों के लिये विदेशों से आये लोग हैं.

01 February 2019, 11:41