खोज

Vatican News
आबू धाबी के सन्त जोसफ महागिरजाघर में आबू धाबी के सन्त जोसफ महागिरजाघर में  (ANSA)

आबू धाबी में काथलिक नेताओं से मुलाकात

आबू धाबी के सन्त जोसफ महागिरजाघर में मंगलवार को सन्त पापा फ्राँसिस ने संयुक्त अरब अमीरात में सेवारत लातीनी रीति के काथलिक धर्माध्यक्षों से मुलाकात की। इनमें मध्यपूर्व, यूरोप एवं अफ्रीका के 16 राष्ट्रों के धर्माध्यक्ष एवं प्रेरितिक प्रशासक शामिल थे। जैरूसालेम में लातीनी रीति के प्राधिधर्माध्यक्ष फ्राँसिसकन धर्मसमाजी पियर बतिस्ता पित्साबाल्ला धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष हैं।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी


आबू धाबी, मंगलवार, 5 फरवरी 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): आबू धाबी के सन्त जोसफ महागिरजाघर में मंगलवार को सन्त पापा फ्राँसिस ने संयुक्त अरब अमीरात में सेवारत लातीनी रीति के काथलिक धर्माध्यक्षों से मुलाकात की. इनमें मध्यपूर्व, यूरोप एवं अफ्रीका के 16 राष्ट्रों के धर्माध्यक्ष एवं प्रेरितिक प्रशासक शामिल थे. जैरूसालेम में लातीनी रीति के प्राधिधर्माध्यक्ष फ्राँसिसकन धर्मसमाजी पियर बतिस्ता पित्साबाल्ला धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष हैं.

सन्त जोसफ महागिरजाघर

आबू धाबी का सन्त जोसफ महागिरजाघर अमीरात के दो महागिरजाघरों में से एक है. दूसरा महागिरजाघर मुस्साफाह स्थित सन्त पौल महागिरजाघर है. सन् 1964 में सन्त जोसफ गिरजाघर का शिलान्यास किया गया था जबकि 1965 में इसका अनुष्ठान सम्पन्न किया गया था. सन् 1983 में इसे साऊदी अरब के प्रेरितिक प्रशासक द्वारा महागिरजाघर घोषित किया गया था. प्रकाशित आँकड़ों के अनुसार सन्त जोसफ महागिरजाघर में शिश्व के विभिन्न राष्ट्रों से लगभगक लाख काथलिक विश्वासी आराधना-अर्चना के लिये एकत्र होते हैं. अरबी, अँग्रेजी, एवं फ्रेंच भाषाओं के अलावा महागिरजाघर में तागालोक, मलयालम, सिंघली, उर्दु एवं तमिल भाषाओं में भी ख्रीस्तयाग अर्पण एवं र्रार्थनाएँ अर्पित की जाती हैं. महागिरजाघर के पल्ली पुरोहित केरल के फादर जॉनसन काडूकनमाक्केल हैं जो 1990 में ोहरोहिताभिषेक के बाद से ही खाड़ी के देशों में अपनी प्रेरिताई का निर्वाह करते रहे हैं.

पुष्पांजलि और प्रार्थना

मंगलवार को सन्त जोसफ महागिरजाघर में काथलिकों के एक समुदाय सहित अरब देशों के प्रेरितिक प्रतिधर्माध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष पौल हिन्डर तथा पल्ली पुरोहित फादर जॉनसन काडूकनमाक्केल ने सन्त पापा फ्राँसिस का स्वागत किया. भक्तिगीत की धुन के बीच महागिरजाघर के प्रमुख गलियारे से सन्त पापा ने महागिरजाघर में प्रवेश किया जहाँ एक परिवार ने उन्हें एक गुलदस्ता अर्पित किया जिसे सन्त पापा ने महागिरजाघर की वेदी पर अर्पित कर मौन प्रार्थना अर्पित की तथा उपस्थित लोगों को आशीर्वाद प्रदान किया.    

05 February 2019, 11:55