Cerca

Vatican News
भूमध्य सागर में फंसे हुए शरणार्थी भूमध्य सागर में फंसे हुए शरणार्थी 

करुणा के आँसू दिल और भावनाओं को शुद्ध करते हैं, संत पापा

संत पापा ने सभी लोगों के अपने मनोवेग को प्रकट करने और रोने से न डरने की प्रेरणा दी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 09 जनवरी 2019 (रेई) : जब मनुष्य अपने किसी प्रबल मनोवेग का सामना करता है, विशेषकर पीड़ा, शोक, क्रोघ और हर्ष में उसके आँसू निकलते हैं। अत्यंत शोक से क्षोभित तथा व्‍याकुल मनुष्य का रोना ही हृदय को विदीर्ण होने से बचाने का उपाय है। संत पापा ने ट्वीट प्रेषित कर सभी लोगों के मानव मनोवेग को प्रकट करने की प्रेरणा दी।

संदेश में उन्होंने लिखा,“जब आप कठिन परिस्थितियों का सामना करते हैं तो रोने से न डरें: आँसू वो बूँदें हैं जो जीवन को सींचती हैं। करुणा के आँसू दिल और भावनाओं को शुद्ध करते हैं।”

09 January 2019, 16:00