Cerca

Vatican News
अल्जीरिया के मठवासी अल्जीरिया के मठवासी  (AFP or licensors)

अल्जीरिया के शहीदों की धन्य घोषणा हेतु पोप के विशेषदूत

संत पापा फ्राँसिस ने परमधर्मपीठीय संत प्रकरण परिषद् के अध्यक्ष कार्डिनल जोवन्नी अंजेलो बेचू को अल्जीरिया में 19 शहीदों की धन्य घोषणा हेतु अपना विशेष दूत नियुक्त किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 6 दिसम्बर 2018 (रेई)˸ संत पापा फ्राँसिस ने अल्जिरिया में 19 शहीदों की धन्य घोषणा के अवसर पर परमधर्मपीठीय संत प्रकरण परिषद् के अध्यक्ष कार्डिनल जोवन्नी अंजेलो बेचू को अपना विशेष दूत नियुक्त किया। धन्य घोषणा समारोह ओरान के नोट्र डम दी संता क्रूज में 8 दिसम्बर को माता मरियम के निष्कलंक गर्भागमन के दिन सम्पन्न होगा।

संत पापा ने अल्जीरिया के 19 शहीदों की धन्य घोषणा हेतु कार्डिनल बेचू को लिखे पत्र में कहा, "अत्याचार अतीत की घटना नहीं है क्योंकि आज भी हम उनका सामना कर रहे हैं चाहे शहादत के रूप में जैसा कि आधुनिक युग के कई शहीदों के साथ हो रहा है अथवा धोखा एवं झूठ के रूप में।"

उन्होंने कहा, "कई बार अत्याचार उपहास का रूप ले लेता है जो हमारे विश्वास को व्यंग्यात्मक रूप में प्रस्तुत करने की कोशिश करता तथा हमें मजाक का पात्र बनाता है।"

ओरान में दोमिनिकन धर्माध्यक्ष पीटर क्लावेर एवं 18 धर्मसमाजी पुरोहितों एवं धर्मबहनों को जो फ्राँस, स्पेन एवं बेलजियम के थे उन्हें मुस्लिम बहुलक देश द्वारा 1991 से 2002 के बीच मौत के घाट उतार दिया गया था। उन दिनों इस्लामियों एवं मिलिटरी के बीच संघर्ष चल रहा था। उन शहीदों में से 7 तिभिरिन के ट्रैपिस्ट मठवासी थे जिनकी हत्या 1996 में हो गयी थी और 19 में से छः धर्मबहनें थीं।

विश्वास, प्रेम, क्षमाशीलता

पत्र में संत पापा ने कहा कि ईश्वर के पुत्र येसु जो दोष रहित थे किन्तु उन्हें भी क्रूर पीड़ा एवं मृत्यु सहना पड़ा। येसु ने अपने शिष्यों से कहा था, "सेवक अपने स्वामी से बड़ा नहीं होता। यदि उन्होंने मुझे सताया है तो वे तुम्हें भी सतायेंगे।"

संत पापा ने कहा कि शहीदों के प्रति कलीसिया विशेष भक्ति रखती है जिन्होंने येसु के लिए अपने विश्वास और प्रेम का साक्ष्य दिया और जिसके लिए उन्हें अपना खून बहाना पड़ा क्योंकि उन्होंने येसु के उस कथन पर विश्वास किया, "मुझे स्वर्ग में और पृथ्वी पर सारा अधिकार मिला है...मैं दुनिया के अंत तक सदा तुम्हारे साथ हूँ।"  

उन्होंने कहा कि शहीदों ने अपने हत्यारों को माफ कर दिया जो दिखलाता है कि वे अनन्त जीवन से प्रेम करते थे और अब उन्होंने अपने प्रेम को प्राप्त कर लिया है तथा मृतकों के पुनरूत्थान में वे उसे पूर्ण रूप से प्राप्त कर लेंगे।

06 December 2018, 17:07