Cerca

Vatican News
रतजिंगर पुरस्कार जीतने वाले ईशशास्त्री एवं वास्तुकार के साथ संत पापा रतजिंगर पुरस्कार जीतने वाले ईशशास्त्री एवं वास्तुकार के साथ संत पापा  (ANSA)

रतजिंगर पुरस्कार वितरण समारोह

रतजिंगर पुरस्कार वितरण समारोह का नेतृत्व करते हुए संत पापा फ्राँसिस ने ससम्मान सेवानिवृत संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें की विरासत के लिए आभार प्रकट किया तथा इस वर्ष के पुरस्कार विजेताओं की सराहना की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वर्ष 2018 में रतजिंगर पुरस्कार जीतने वाले ईशशास्त्री एवं वास्तुकार को बधाई देते हुए संत पापा ने कहा कि उनका महान कार्य हमारे सर ऊंचा करने एवं हमारे सोच को ईश्वर की ओर प्रेरित करने में मदद देता है। 

रतजिंगर पुुरस्कार

रतजिंगर पुरस्कार उन प्रकांड व्यक्तियों को सम्मानित किया जाता है जो ईशशास्त्र में शोध कार्य करते अथवा धार्मिक कला के कार्यों में संलग्न हैं। पुरस्कार का वितरण ससम्मान सेवानिवृत संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें के द्वारा किया गया जिन्होंने फाऊँडेशन की स्थापना 2010 में की थी।  

ईशशास्त्रियों एवं वास्तुकारों को रतजिंगर पुरस्कार

प्रोफेसर मरियान्ने स्लोसर तथा वास्तुकार मारियो बोत्ता ने रतजिंगर पुरस्कार प्राप्त किया। संत पापा ने उन्हें सम्बोधित कर कहा, हमारे समय की बड़ी समस्याओं की पृष्ठभूमि एवं संदर्भ के विपरीत ईशशास्त्र एवं कला को आगे बढ़ना है, उसे पवित्रता द्वारा प्रेरित एवं अग्रसर होना है जो हमारे लिए बल, आनन्द एवं आशा का स्रोत है।  

संत पापा बेनेडिक्ट 16वें के प्रति आभार प्रकट करने का अवसर

संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि यह एक प्यारा समय है जिसमें हम अपनी प्रशंसा एवं आभारी भावना ससम्मान सेवानिवृत संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें को प्रकट कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक विरासत के प्रशांसक के रूप में फाऊँडेशन के सदस्यों तथा पुरस्कार विजेताओं के लिए एक मिशन है कि वे इसे बनाये रखें तथा जिस दृढ़ कलीसियाई भावना के माध्यम से जोसेफ रतजिंगर ने विशिष्टता हासिल की वह फल उत्पन्न करता रहे। 

महिला ईशशास्त्री की सराहना    

संत पापा फ्राँसिस ने महिला ईशशास्त्री फ्रोफेसर स्क्लोसेर के प्रति अपना संतोष प्रकट करते हुए कहा कि अनुसंधान एवं शिक्षा देने के कार्य के लिए दिये गये सम्मान हेतु इस वर्ष महिला को चुना गया है।   

 

17 November 2018, 17:45