बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
धर्माध्यक्षीय धर्मसभा के उद्घाटन हेतु संत पापा फ्राँसिस द्वारा  बुधवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में ख्रीस्तयाग का अनुष्ठान धर्माध्यक्षीय धर्मसभा के उद्घाटन हेतु संत पापा फ्राँसिस द्वारा बुधवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में ख्रीस्तयाग का अनुष्ठान  

संत पापा फ्राँसिस द्वारा धर्माध्यक्षीय धर्मसभा का उद्घाटन

"युवा, विश्वास एवं बुलाहटीय आत्मजाँच" पर धर्माध्यक्षीय धर्मसभा के उद्घाटन हेतु संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में ख्रीस्तयाग का अनुष्ठान किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार, 3 अक्तूबर 2018 (वाटिकन न्यूज) ˸ संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार 3 अक्टूबर को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में विश्वभर से आये धर्माध्यक्षों, पुरोहितों और हजारों तीर्थयात्रियों और विश्वासियों के साथ मिलकर ख्रीस्तयाग समारोह का अनुष्ठान कर 15वीं धर्माध्यक्षीय धर्मसभा का उद्घाटन किया।

सिनॉड में भाग लेने हेतु विश्व के विभिन्न देशों से करीब 300 की संख्या में कार्डिनल,महाधर्माध्यक्ष,धर्माध्यक्ष धर्मसमाजी एवं लोकधर्मी एकत्रित हुए हैं।  1965 में, संत पापा पौल छाटवें द्वारा सिनॉड की स्थापना के बाद पहली बार चीन के दो धर्माध्यक्ष सिनॉड में भाग लेने आये हुए हैं। यह चीन एवं परमधर्मपीठ के बीच अस्थायी समझौता के कारण सम्भव हो पाया है। अपने प्रवचन के दौरान संत पापा ने विशेष रुप से चीन के धर्माध्यक्षों को पहली बार सिनॉड में भाग लेने हेतु आने के लिए गर्मजोशी के साथ स्वागत किया।

15वीं धर्माध्यक्षीय धर्मसभा का विषय "युवा, विश्वास एवं बुलाहटीय आत्मजाँच" है। जो आज 3 अक्टूबर से लेकर 28 अक्टूबर तक चलेगी । शनिवार 28 अक्टूबर को प्रातः 9 बजे धन्यवादी समारोही ख्रीस्तयाग के साथ इसका समापन होगा।

संत पापा फ्राँसिस वाटिकन के धर्मसभागार में बुधवार शाम को सिनाड के प्रतिभागियों का आधिकारिक रुप से स्वागत करेंगे और प्रारंभिक प्रार्थना की अगुवाई करेंगे।

सिनॉड के महासचिव कार्डिनल लोरेंन्सो बालदिस्सेरी ने सोमवार को वाटिकन में आयोजित एक प्रेस सम्मेलन में कहा कि कलीसिया के जीवन में धर्माध्यक्षीय धर्मसभा एक महत्वपूर्ण समय है। यह वर्तमान की विषय वस्तुओं पर चिंतन करने एवं भविष्य की ओर देखने का समय है, परिवर्तन के इस दौर में विश्व के साथ सामंजस्य करने तथा नया लक्ष्य रखने का वक्त है। सिनॉड में कलीसिया काथलिक युवाओं के विश्वास का विशेष रूप से समर्थन करना चाहती है तथा उन मुद्दों पर बात करना चाहती है जो उनसे संबंधित है ताकि वे नई पीढ़ी के आदर्श नेता बन सकें।

 इस साल के मार्च महीने में विश्वभर के युवा प्रतिनिधियों ने सिनॉड के पूर्व की सभा में भाग लिया था।

03 October 2018, 17:30