बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
अमरीकी बाईबिल सोसाईटी के प्रतिनिधियों के साथ संत पापा अमरीकी बाईबिल सोसाईटी के प्रतिनिधियों के साथ संत पापा  (ANSA)

ईशवचन की प्रेरिताई हेतु समर्पण को गहरा करें, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार 31 अक्टूबर को वाटिकन स्थित पौल षष्ठम सभागार में अमरीकी बाईबिल सोसाईटी के प्रतिनिधियों से मुलाकात की तथा उन्हें ईशवचन की प्रेरिताई हेतु उनके समर्पण को गहरा करने का प्रोत्साहन दिया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

बुधवार को आमदर्शन समारोह के पूर्व संत पापा ने उन्हें सम्बोधित कर कहा, "मैं आपको अपनी प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाने और उसे अधिक तेज करने का प्रोत्साहन देता हूँ, जैसा कि आपके मिशन वक्तव्य में कहा गया है- "ईशवचन के द्वारा जीवन में बदलाव लाना।"

संत पापा ने कहा कि सचमुच ईश वचन में जीवन को बदलने की शक्ति है क्योंकि ईश्वर का वचन जीवन्त, सशक्त और किसी भी दुधारी तलवार से अधिक तेज है। (इब्रा. 4:12) इब्रानियों के नाम पत्र के इन्हीं शब्दों का स्मरण कर मैं आपको प्रार्थनामय शुभकामनाएँ अर्पित करता हूँ जो वार्षिक आध्यात्मिक साधना के लिए रोम आये हैं।

"ईश वचन जीवन्त और सशक्त है"

संत पापा ने कहा, "सृष्टि के आरम्भ में ईश्वर ने आदेश दिया और दुनिया की सृष्टि हो गयी।" (उत्पति 1:6-7) समय पूरा हो जाने पर येसु ने हमें शब्द प्रदान किया जो आत्मा एवं जीवन है। अपने शब्दों द्वारा उन्होंने टूटे हृदयों को जोड़ा, जकेयुस तथा चुंगी जमा करने वाले मत्ती को अपना अनुसरण करने को कहा और वे उनके पीछे हो लिये। संत पापा ने कहा कि ईश वचन के माध्यम से प्रार्थना करने के द्वारा हम भी वचन की शक्ति को महसूस करेंगे। यह खाली वापस नहीं लौटता बल्कि हर उद्देश्य को पूरा करता है। (इसा. 55:10-11) उन्होंने कहा कि किसी भी किताब में इतनी शक्ति नहीं है कि वह जीवन को परिवर्तित कर सके। इसके वचन में हम उस आत्मा को पहचानते हैं जो हमारा मार्गदर्शन करता है क्योंकि आत्मा के द्वारा ही बाईबिल को सचमुच स्वीकार किया, जीया तथा उसका प्रचार किया जा सकता है। पवित्र आत्मा हमारा स्पर्श करता तथा येसु के कथन का स्मरण दिलाता है।

"ईश्वर का वचन तेज है"

संत पापा ने कहा कि यह मधु के समान है जो प्रभु की सुखद मधुरता प्रदान करता है किन्तु यह हमारे हृदय में बेचैनी भी उत्पन्न करता है। (प्रकाशना. 10:10) क्योंकि यह गहराई में जाता तथा आत्मा के गुप्त स्थानों में प्रकाश डालता है। यह उसमें प्रवेश कर उसे शुद्ध करता है। दुधारी तलवार पहले घायल करती किन्तु यह हमारे लिए हितकर है क्योंकि यह उन सभी चीजों को काट कर अलग कर देती है जो हमें ईश्वर एवं उनके प्रेम से अलग करते हैं। संत पापा ने प्रतिनिधियों के लिए प्रार्थना की कि बाईबिल के द्वारा वे ईश्वर के कोमल प्रेम एवं चंगाई दायी उपस्थिति को गहराई से अनुभव कर सकें।

अमरीकी बाईबिल सोसाईटी के प्रतिनिधियों को संत पापा की सलाह

ईश्वर का वचन विचारों एवं मनोकामनाओं की परख करता है। जीवन का वचन सच्चा है तथा उनका वचन हममें सच्चाई उत्पन्न करता है। हर प्रकार के झूठ एवं कपट को नष्ट कर देता है। ईश वचन हमें लगातार बदलता है ताकि हमें ईश्वर के रास्ते पर पुनः संचालित कर सके। ईश वचन को पढ़ने के द्वारा हम खुली किताब बन जाते हैं, जीवन्त वचन को प्रतिबिम्बित करते, येसु का साक्ष्य देते तथा सुसमाचार के प्रचारक बनते हैं। ईश वचन नयापन लाता, हमारी रक्षा करता तथा हमारी योजनाओं एवं पूर्वाग्रहों को तोड़ देता है।   

संत पापा ने अमरीकी बाईबिल सोसाईटी के प्रतिनिधियों को शुभकामनाएँ दी कि वे अनेक भाई-बहनों के हित बाईबिल की सेवा में अपने समर्पण को नवीकृत कर सकें।

31 October 2018, 15:32