Cerca

Vatican News
आयवरी कोस्ट में कोको की खेती करते श्रमिक आयवरी कोस्ट में कोको की खेती करते श्रमिक  (AFP or licensors)

श्रमिकों की सुरक्षा का सन्त पापा फ्राँसिस ने किया आह्वान

सन्त पापा ने कहा कि जो लोग नौकरियों पर रहते अथवा मज़दूरी करते समय दुर्घटनाओं के शिकार हुए हैं और विकलांग हो गये हैं उन्हें केवल आर्थिक ही नहीं अपितु मनोवैज्ञानिक सहायता की भी ज़रूरत होती है। उन्होंने कहा कि समाज के सभी लोगों का दायित्व है कि दुर्घटनाओं के कारण विकलांग हुए लोगों की मदद करें तथा उनके प्रति एकात्मता प्रदर्शित करें।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, गुरुवार, 20 सितम्बर 2018 (रेई, वाटिकन रेडियो): वाटिकन में गुरुवार को सन्त पापा फ्रांसिस ने श्रम से विकलांग हुए लोगों के इताली संघ "आनमिल" के सदस्यों को सम्बोधित कर श्रमिकों की सुरक्षा एवं उनके प्रति सम्मान का आह्वान किया.

"आनमिल" के कार्यों की सराहना

सन्त पापा ने श्रमिकों के हित में "आनमिल" के कार्यों की सराहना की तथा कहा कि संघ समाज की बेहतर व्यवस्था हेतु एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है.

सन्त पापा ने कहा कि जो लोग नौकरियों पर रहते अथवा मज़दूरी करते समय दुर्घटनाओं के शिकार हुए हैं और विकलांग हो गये हैं उन्हें केवल आर्थिक ही नहीं अपितु मनोवैज्ञानिक सहायता की भी ज़रूरत होती है. उन्होंने कहा कि समाज के सभी लोगों का दायित्व है कि दुर्घटनाओं के कारण विकलांग हुए लोगों की मदद करें तथा उनके प्रति एकात्मता प्रदर्शित करें. उन्होंने इस सन्दर्भ में कलीसिया की सामाजिक शिक्षा को उद्धृत कर कहा कि श्रम से विकलांग लोगों के प्रति आर्थिक समर्थन एवं एकात्मता दोनों ज़रूरी है जिसे समाज के हर स्तर पर निर्मित किया जाना चाहिये.

कार्यस्थलों पर पूर्ण सुरक्षा के उपाय

दूसरी ओर, सन्त पापा ने कहा कि ऐसे उपाय किये जाने चाहिये कि श्रमिकों को कार्यस्थलों पर पूर्ण सुरक्षा मिले. इस क्षेत्र में श्रम एवं उत्पादकता के बीच खतरनाक सन्तुलन से बचना ज़रूरी है जिसमें उत्पादकता के आधार पर व्यक्तियों का मूल्याकन किया जाता है.

उन्होंने कहा कि केवल लाभ पर ध्यान देने वाला निकाय श्रमिकों के शोषण को प्रश्रय देता तथा उन्हें ख़तरनाक परिस्थितयों में काम करने पर मज़बूर करता है. इस दिशा में सन्त पापा ने कहा कि उत्पादन कम्पनियों, फैक्ट्रियों, अनुसन्धान संस्थाओं एवं श्रम मंत्रालय के बीच सहयोग को प्रोत्साहित किया जाना चाहिये ताकि श्रमिकों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जा सके.

 

 

20 September 2018, 11:17