बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News

प्रेरितिक यात्रा के पूर्व बाल्टिक देशों को संत पापा का संदेश

बाल्टिक देशों, लितुवानिया, लातविया और एस्टोनिया में अपनी प्रेरितिक यात्रा के पूर्व, संत पापा फ्राँसिस ने एक वीडियो संदेश द्वारा उन देशों के सभी लोगों का अभिवादन किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

लितुवानिया, लातविया और एस्टोनिया में संत पापा फ्राँसिस की प्रेरितिक यात्रा 22-25 सितम्बर को होगी। 

संदेश में संत पापा ने कहा, "यद्यपि मैं काथलिक कलीसिया के एक चरवाहे के रूप में आ रहा हूँ, मैं आप प्रत्येक का आलिंगन करना तथा शांति, सद्इच्छा एवं भविष्य की आशा का संदेश देना चाहता हूँ।" 

उन्होंने गौर किया कि उनकी यात्रा ऐसे समय में आयोजित की गयी है जब ये तीनों देश अपनी आजादी की शतवर्षीय जयन्ती मना रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे उन सभी लोगों को उनके बलिदान के लिए श्रद्धांजलि अर्पित करना चाहते हैं जिन्होंने वर्तमान की आजादी को सम्भव करने हेतु कुर्बानी दी। 

आजादी की कीमती धरोहर

संत पापा ने कहा, "आजादी जैसा कि हम जानते हैं एक धरोहर है जिसकी लगातार रक्षा की जानी चाहिए तथा मूल्यवान विरासत की तरह नई पीढ़ी को हस्तांतरित किया जाना चाहिए।"  

बेहतर समाज के निर्माण हेतु बाल्टिक देशों को संत पापा का निमंत्रण 

उन्होंने कहा, "अंधकार, हिंसा और अत्याचार के समय में, स्वतंत्रता की लौ बुझी नहीं बल्कि भविष्य की आशा जगायी, जहाँ हर व्यक्ति की मानव प्रतिष्ठा का सम्मान है तथा प्रत्येक व्यक्ति एक न्याय एवं भाईचारापूर्ण समाज के निर्माण हेतु सहयोग देने के लिए बुलाया गया महसूस करता है।"

उन्होंने गौर किया कि एकात्मता एवं सेवा का महत्व अभी पहले से कहीं अधिक है। उन्होंने कहा, "मैं उम्मीद करता हूँ कि मेरी यात्रा, सद्इच्छा रखने वाले उन सभी लोगों के लिए प्रोत्साहन का स्रोत बनेगा, जो अतीत के आध्यात्मिक एवं संस्कृतिक मूल्यों से प्रेरित होकर, हमारे भाई-बहनों की पीड़ाओं एवं आवश्यकताओं में उनकी मदद कर सकेंगे और इसके लिए समाज के हर स्तर के लोगों के बीच एकता एवं सौहार्द को बढ़ावा दिया जा सकेगा।   

संदेश में संत पापा ने उन सभी लोगों को धन्यवाद दिया जो लितुवानिया, लातविया और एस्टोनिया में प्रेरितिक यात्रा की सफलता हेतु अथक प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने अपने लिए प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को अपना आध्यात्मिक सामीप्य प्रदान किया तथा उन्हें अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया।

 

21 September 2018, 16:10