बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
युवाओं के साथ संत पापा फ्राँसिस युवाओं के साथ संत पापा फ्राँसिस  (ANSA)

संत पापा युवाओं से : प्यार करने की जोखिम लेें!'

संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार को इटली के सभी धर्मप्रांतों से रोम आये करीब 70 हजार युवाओं से मुलाकात की और चार युवाओं के दृदय स्पर्शी प्रश्नों का जवाब दिया।

माग्रेट सुनीता मिंज - वाटिकन सिटी

रोम, सोमवार, 13 अगस्त 2018 (रेई) : 70,000 से अधिक इटली के युवाओं की तीर्थयात्रा का अंतिम पड़ाव रोम के चिरको माक्सिमो में शनिवार शाम को जागरण प्रार्थना में शामिल होना था। अक्टूबर में युवा लोगों के लिए धर्माध्यक्षों की धर्मसभा और जनवरी में विश्व युवा दिवस के संदर्भ में इतालवी धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के युवा कार्यालय द्वारा सप्ताह भर की तीर्थ यात्रा का आयोजन किया गया था।

चिरको माक्सिमो में शाम की जागरण प्रार्थना में शामिल होने संत पापा फ्राँसिस आये थे। उन्होंने कुछ युवाओं द्वारा तैयार चार प्रश्नों का जवाब दिया।

सपने - चमकते सितारे

लेतिज्या और लूका मत्तेयो दोनों ने संत पापा से अपने सपनों को साकार करने के संदर्भ में प्रश्न पूछा।

संत पापा ने जवाब दिया कि उनके सपने सबसे महत्वपूर्ण हैं क्योंकि "वे उनके अपने हैं।" संत पापा ने उन्हें अपने सपने को अपना भविष्य बनाने के लिए प्रोत्साहित किया और उन्हें खुद से पूछने के लिए आमंत्रित किया कि उनके सपने कहां से आते हैं। उन्होंने कहा कि उनके सपनों का दायरा बाइबिल में वर्णित "महान सपनों" की तरह होनी चाहिए। उन सपनों को महान कहा गया है क्योंकि इस सपने में सभी शामिल हैं।

"महान सपनों में सभी शामिल हैं, जिसे दूसरों के साथ साझा किया जा सकता, जो अपने में कैद नहीं रहते पर बाहर दूसरों के पास जाते हैं और जीवन को नवीन बना देते हैं।" संत पापा ने उन वयस्कों से, जो युवाओं के सपनों से डरते हैं उन्हें युवाओं के कुछ सपनों को लेने के लिए प्रोत्साहित किया। संत पापा ने युवाओं के सलाहकारों को उनके सपनों को समझने और धीरे-धीरे उन्हें साकार करने हेतु प्रोत्साहित किया।

प्यार करने की जोखिम लें!

मार्टिना ने अपने निजी भविष्य की योजना बनाने में कठिनाई और कठोर प्रतिबद्धताओं और दबावों को शामिल करने की कठिनाई के बारे में एक सवाल पूछा। वे पहले अपने पेशे को भविष्य की योजना बनाना चाहती हैं।

संत पापा ने कहा कि मार्टिना ने वर्तमान समय के युवाओं के घावों को स्पर्श किया है। "खुद के लिए निर्णय लेने में सक्षम होना" स्वतंत्रता की सर्वोच्च अभिव्यक्ति है।" एक निश्चित निर्णय को स्थगित करने का हर बहाना "हमें रोकता है, हमें आगे बढ़ने नहीं देता है, हमें सपने देखने की अनुमति नहीं देता है, हमारी स्वतंत्रता को दूर करता है"। संत पापा ने बाइबिल में वर्णित पुरुष और महिला पर विचार किया, जहाँ दोनों ही ईश्वर के प्रतिरुप हैं। ईश्वर ने पुरुष और महिला को एक दूसरे का पूरक बनाया। एक दूसरे के लिए प्यार ही उन्हें महान बनाता है। एक दूसरे के लिए प्रेम का अनुभव करना एक बड़ी कृपा है, ईश्वर का उपहार है। संत पापा ने युवाओं से उस प्रेम को स्वीकार करने हेतु प्रोत्साहित किया और कहा,"प्यार के बारे में सोचने से न डरें: एक प्यार जो जोखिम लेने के लिए तैयार है वही प्यार दूसरे के प्रति वफादार रहता और अपने साथ-साथ दूसरे को भी बढ़ने के लिए पर्याप्त अवसर देता है। 

बात से नहीं, जीवन द्वारा साक्ष्य

युवक दारियो ने कलीसिया में विश्वास और उसके अर्थ की खोज के संदर्भ में तीसरा सवाल प्रस्तुत किया। उसके अनुसार कलीसिया वर्तमान परिस्थितियों का पर्याप्त रूप से प्रतिक्रिया नहीं देती है और अक्सर घोटाले के कारण विश्वसनीय नहीं रह गई है।

संत पापा ने कहा कि दारियो ने भी कलीसिया के वर्तमान "घाव की ओर इशारा किया है।" संत पापा ने सभी से चाहे वह धर्माध्यक्ष, पुरोहित, धर्मसंघी यो लोकधर्मी हो, अपने आप से यह सवाल करने को कहा कि हम व्यक्तिगत रुप से और कलीसिया में अपने विश्वास को किस तरह से जीते हैं? संत पापा ने अपने व्यक्तिगत अनुभव को साझा किया और कहा कि क्राकोव (पोलैंड) में विश्व युवा दिवस के दौरान एक युवा ने उनसे पूछा था कि वह अपने विश्वविद्यालय के एक नास्तिक दोस्त को कैसे समझा सकता है कि हमारा धर्म सच्चा है। संत पापा ने उससे कहा कि उसे समझाने की जरुरत नहीं है एक चीज करना है, वो एक सच्चे ख्रीस्तीय के रुप में जीना शुरु करे और आपका दोस्त खुद आपसे पूछेगा कि आप इस तरह क्यों जीते हैं।" संत पापा ने वहाँ उपस्थित युवाओं से खुद से यह प्रश्न करने और उसका जवाव देने को कहा कि वे कैसे अपने विश्वास को देखते हैं। क्या वे अपने विश्वास को अपने जीवन में जी पा रहे हैं? क्या वे येसु के संदेश की गवाही दे पा रहे हैं? "क्योंकि गवाही के बिना कलीसिया, केवल धुआं है।"

13 August 2018, 15:42