Cerca

Vatican News
करुणामय येसु की प्रतिमा करुणामय येसु की प्रतिमा  (AFP or licensors)

येसु मसीह में अनंत जीवन

संत पापा फ्राँसिस सभी विश्वासियों को येसु मसीह के बताये मार्ग पर चलते हुए हर प्रकार की बुराइयों का सामना करने के लिए प्रेरित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 8 अगस्त 2018 (रेई) : संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीट प्रेषित कर संदेश में लिखा,“ बुराई हमें यह समझाने की कोशिश करती है कि मृत्यु सबकुछ का अंत है। लेकिन पुनर्जीवित मसीह ने हमारे लिए अनंत जीवन का एक नया आयाम प्रकट किया है”  

ईश्वर की बनाई यह दुनिया अच्छाई और बुराई, सत्य और झूठ, जीवन और मृत्यु के बीच एक युद्धक्षेत्र के समान है। ईश्वर ने अपने बेटे येसु को इस दुनिया में इसलिए भेजा ताकि सभी बुराई की जड़, शैतान और उसके कामों का सामना करें। शैतान ने अपने सारे तरकीबों को येसु पर आज़माया था। येसु को गलत समझकर भ्रष्ट लोगों ने उन्हें सताया। उनकी लोकप्रियता को झूठ के द्वारा नष्ट किया। अंत में, शैतान ने येसु पर आखिरी हथियार मृत्यु को आजमाया। लेकिन शैतान उन्हें कभी हरा नहीं पाया। येसु ने कभी भी बुराई के बदले में बुराई नहीं की बल्कि अच्छाई से बुराई पर विजय पाई। येसु कहते हैं, “मार्ग सत्य और जीनव मैं हूँ।” (योहन 14,6.अ)

08 August 2018, 17:42