बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
इताली संसद भवन इताली संसद भवन  (ANSA)

काथलिक विधायकों को संत पापा का सम्बोधन

संत पापा ने काथलिक विधायकों से कहा कि "ख्रीस्तियों एवं अन्य धर्मों के अल्पसंख्यों की स्थिति चरमपंथ के कारण बुरी तरह खराब हो गयी है। चरमपंथ से संघर्ष करना एक वास्तविक खतरा है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार 22 अगस्त को, अंतरराष्ट्रीय काथलिक विधायकों के नेटवर्क के तत्वधान में आयोजित, काथलिक विधायकों की सभा के प्रतिभागियों से मुलाकात की।

उन्होंने विधायकों से कहा कि वे सबसे बढ़कर विनम्रता एवं साहस पूर्वक साक्ष्य देने के लिए बुलाये गये हैं जिसके लिए उन्हें व्यक्ति और समाज में ख्रीस्तीय दृष्टिकोण के अनुरूप योग्य कानून मसौदा प्रस्तुत करना है, खासकर, जो हितकारी कार्यों को प्रोत्साहन देने के लिए समर्पित हैं, उन्हें धार्मिक स्वतंत्रता के मुद्दे पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है।

ख्रीस्तियों के विरूद्ध भेदभाव एवं अत्यचार

इस बात पर गौर करते हुए कि इस वर्ष की सभा धार्मिक एवं अंतःकरण की स्वतंत्रता पर आधारित है संत पापा ने सन् 1965 में प्रकाशित "डिगनितातिस ह्युमाने" पर प्रकाश डाला जिसमें लिखा गया है, कि उस समय महासभा में भाग लेने वाले धर्माचार्य चिंतित थे, खासकर, उस शासन के लिए जिसमें यदि उनके संविधान में धार्मिक उपासना की स्वतंत्रता को स्वीकार भी किया गया हो किन्तु नागरिकों को धार्मिक अभिव्यक्ति से रोकने का प्रयास किया जाता था और उस धार्मिक समुदाय के जीवन को अत्यन्त कठिन और जोखिम भरा बना दिया जाता था। संत पापा ने कहा कि वर्तमान युग में इसकी नई परछाई जमा हो रही है।

संत पापा ने कहा कि ख्रीस्तीय एवं अन्य धर्मों के अल्पसंख्यों की स्थिति जहाँ चरमपंथियों की पहुँच है बहुत खराब हो चुकी है।

उन्होंने कहा कि ऐसी भूमि जहाँ असहिष्णुता, आक्रामकता और हिंसक कार्यों का विस्तार हो रहा है जिसने भेदभाव, शोषण एवं अत्याचार को बढ़ावा दिया है जिसपर अधिकारियों द्वारा उचित ध्यान नहीं दिया गया है।

अतिवाद से कट्टरवाद का सामना नहीं 

संत पापा ने कहा कि दो विचारधाराएँ हैं जो एक-दूसरे के विपरीत हैं किन्तु धार्मिक एवं अंतःकरण की स्वतंत्रता के लिए एक समान खतरनाक हैं, धर्मनिरपेक्ष सापेक्षता एवं धार्मिक कट्टरवाद। उन्होंने कहा कि अतिवाद से लड़ने में सच्चा खतरा है असहिष्णुता का।  

अंतरराष्ट्रीय काथलिक विधायकों का नेटवर्क विश्वभर के काथलिक सांसदों का नेटवर्क है। इसकी स्थापना 2010 में की गयी थी। 

22 August 2018, 17:44