बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
आयरलैण्ड में दुराचारों पर चर्चा गर्म आयरलैण्ड में दुराचारों पर चर्चा गर्म  (AFP or licensors)

आयरलैण्ड यात्रा पूर्व दुराचारों के विरुद्ध कार्रवाई का आह्वान

"कलीसिया में आवश्यकता है संस्कृति को बदलने की, मानसिकता को बदलने की। अगर यह नहीं बदली गई तो, यह जारी रहेगा"। सन् 2014 में पुरोहितों के दुराचारों से निपटने तथा पीड़ितों को समर्थन देने के लिये सन्त पापा फ्राँसिस ने उक्त परमधर्मपीठीय आयोग की स्थापना की थी।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

डबलिन, शनिवार, 25 अगस्त 2018 (रेई, वाटिकन रेडियो): आयरलैण्ड यात्रा की पूर्व सन्ध्या सन्त पापा फ्राँसिस का आह्वान किया गया कि वे काथलिक कलीसिया के भीतर व्याप्त यौन दुराचार के खिलाफ़ कड़ी कार्रवाई करें.

अपनी जन्मभूमि बोयनस आयरस में किसी समय नाइटक्लब बाउंसर रहे सन्त पापा फ्राँसिस को कलीसिया के अन्तर्गत सुधारक और आधुनिकीकरण के अभिनायक रूप में देखा जा रहा है हांलाकि, उदारवादी लोग उनकी शैली को रूढ़िवादी कहकर उसका विरोध कर रहे हैं. पुरोहितों के दुराचार से पीड़ित लोगों ने यह आरोप भी लगाया है कि सन्त पापा दुराचारी पुरोहितों को दण्डित करने के लिये पर्याप्त नहीं कर रहे हैं. 

दुराचारी पुरोहितों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई का आह्वान

शुक्रवार को नाबालिगों के संरक्षण हेतु गठित परमधर्मपीठीय आयोग के गाब्रिएल दिलियाको ने एक सम्वाददाता सम्मेलन में पत्रकारों के समक्ष कहा, "कलीसिया में आवश्यकता है संस्कृति को बदलने की, मानसिकता को बदलने की. अगर यह नहीं बदली गई तो, यह जारी रहेगा".

सन् 2014 में पुरोहितों के दुराचारों से निपटने तथा पीड़ितों को समर्थन देने के लिये सन्त पापा फ्राँसिस ने उक्त परमधर्मपीठीय आयोग की स्थापना की थी. इस आयोग की सदस्या रही पीड़िता मरिया कोलिन्स ने भी सन्त पापा से आग्रह किया कि वे दुराचारी पुरोहितों तथा उनका साथ निभानेवालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करें. साथ ही उच्चतम पदों पर स्थापित याजकवर्ग को भी दण्डित करने से न चूकें. उन्होंने कहा कि दुराचारियों को दण्डित करने में वाटिकन के भीतर ही घोर विरोध हो रहा है, जो लज्जास्पद है.  

गाब्रिएल दिलियाको ने कहा कि हालांकि कुछेक धर्माध्यक्ष दुराचारों के विरुद्ध कार्रवाई के लिये तैयार हो रहे हैं तथा इन्हें रोकने के लिये कड़े उपायों का समर्थन कर रहे हैं किन्तु यह कार्य अति मन्द गति से चल रहा है जो अत्यन्त दुःख का विषय है. उन्होंने कहा कि सर्वाधिक विरोध दुराचारी पुरोहितों का बचाव करनेवाले धर्माध्यक्षों द्वारा किया जा रहा है क्योंकि अतीत में इनका कार्य केवल दुराचारी पुरोहितों की बदली करना हुआ करता था.

2016 में वाटिकन के चार विभागों को आदेश 

सन्त पापा फ्राँसिस अपनी नियुक्ति के बाद से ही यौन दुराचारी पुरोहितों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई के पक्ष में रहे हैं और साथ ही उन्होंने उन धर्माध्यक्षों को भी फटकार बताई है जो वक्त रहते इसके प्रति निष्क्रिय रहे थे. 2016 में सन्त पापा फ्राँसिस ने वाटिकन के चार विभागों को आदेश दिया था कि वे उन धर्माध्यक्षों पर भी निगरानी रखें जो दुराचारियों के विरुद्ध कार्रवाई नहीं करते ताकि उनसे इस्तीफे की मांग कर सकें.

अपनी पूर्व यात्राओं की तरह ही इस यात्रा के दौरान भी सन्त पापा फ्राँसिस दुराचार के शिकार कुछ व्यक्तियों से मुलाकात कर रहे हैं. 

25 August 2018, 11:02