Cerca

Vatican News
संत मर्था में ख्रीस्तयाग अर्पित करते संत पापा फ्राँसिस संत मर्था में ख्रीस्तयाग अर्पित करते संत पापा फ्राँसिस  (Vatican Media)

प्रभु के कार्यों को याद रखें, संत पापा

चालीसा काल के आरम्भ में हमारे लिए यह आवश्यक है कि हम प्रभु से याद करने की कृपा के लिए प्रार्थना करें ताकि प्रभु की यादों को बनाये रख सकें, उन सभी चीजों को, जिनको उन्होंने मेरे जीवन में किया है। उन्होंने मुझे किस तरह प्रेम किया है, इस बात की याद द्वारा ही हम आगे बढ़ पायेंगे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 7 मार्च 19 (रेई) ˸ "जब हृदय की दिशा पीछे मुड़ जाती है, तब वह सही रास्ते पर आगे नहीं बढ़ता है, वह दूसरा रास्ता अपना लेता है किन्तु आगे नहीं बढ़ पाता है। वह अपनी दिशा, अपने कम्पास को खो देता है जिसके द्वारा सही रास्ते पर आगे बढ़ना संभव था।" यह बात संत पापा फ्राँसिस ने बृहस्पतिवार 7 मार्च को वाटिकन के प्रेरितिक आवास संत मर्था में ख्रीस्तयाग अर्पित करते हुए प्रवचन में कही।

उन्होंने कहा, "बिना कम्पास के होना हृदय के लिए खतरा है। इससे खुद के लिए और दूसरों के लिए भी खतरा है। हृदय गलत रास्ता अपना लेता है जब यह नहीं सुनता और जब वह अपने आप आगे बढ़ता है। जब वह दुनिया के माया-मोह की ओर बढ़ता है तब वह मूर्तिपूजक बन जाता है।"

प्रभु के कार्यों को भूलना हमारी आध्यात्मिकता के लिए खतरा

संत पापा ने कहा कि आध्यात्मिक सेहत के लिए भी यह खतरनाक है। इसके द्वारा वह उस अचेतन स्थित में पड़ सकते हैं जहाँ कुछ भी याद नहीं रहता। जब सब कुछ ठीक चलता है तब हम भूल जाते हैं कि प्रभु ने हमारे जीवन में क्या किया है। हम उनकी कृपाओं को याद नहीं करते एवं उनका श्रेय अपने ऊपर लेते हैं। यहीं पर हृदय पीछे मुड़ जाता है क्योंकि वह आत्मा की आवाज को नहीं सुन सकता और स्मृति की कृपा समाप्त हो जाती है।

प्रभु के कार्यों को याद नहीं करने के कारण पूर्ति पूजा की ओर झुकाव  

संत पापा ने कहा कि मूर्ति पूजा हृदय का वह मनोभाव है जिसे हम पसंद करने लगते हैं क्योंकि हमारे लिए प्रभु नहीं किन्तु वही अधिक आरामदायक लगता है। तब हम प्रभु को भूल जाते हैं। 

चालीसा काल के आरम्भ में हमारे लिए यह आवश्यक है कि हम प्रभु से याद करने की कृपा के लिए प्रार्थना करें ताकि प्रभु की यादों को बनाये रख सकें, उन सभी चीजों को, जिनको उन्होंने मेरे जीवन में किया है। उन्होंने मुझे किस तरह प्रेम किया है, इस बात की याद द्वारा ही हम आगे बढ़ पायेंगे।

प्रभु हर क्षण हमारा साथ देते हैं

तिमोथी की दी गयी संत पौलुस की सलाह, हमारे लिए भी लाभदायक है, जिसमें वे कहते हैं, "याद रखें कि येसु ख्रीस्त मृतकों में से जी उठे।" संत पापा ने कहा कि हम इस बात को सदा याद रखें कि प्रभु जी उठे हैं वे हमारा साथ देते हैं और उस क्षण तक साथ देते रहेंगे, जब हमें महिमा के साथ उनके सामने उपस्थित होना होगा। संत पापा ने याद करने की शक्ति की कृपा के लिए प्रार्थना की। 

07 March 2019, 16:50
सभी को पढ़ें >