खोज

Vatican News
मूरिया में एक समुद्र तट का एक दृश्य, मूरिया में एक समुद्र तट का एक दृश्य,  (AFP or licensors)

कारितास ओशिनिया: विश्वास और महासागर द्वारा एकजुटता

हाल ही में संपन्न कारितास ओशिनिया वार्षिक फोरम में पर्यावरण, विशेष रूप से समुद्र की देखभाल, कोविद महामारी से मुकाबला और विश्वास को पोषित करने की तत्काल आवश्यकता सर्वोच्च प्राथमिकता थी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन न्यूज

टोंगा, सोमवार 2 अगस्त 2021 (वाटिकन न्यूज) : कारितास ओशिनिया परिवार के अधिक सदस्य प्रशांत महासागर के बड़े और छोटे द्वीपों से हैं, जो विश्वास और समुद्र पर उनकी आजीविका निर्भरता में एकजुट हैं। 2021 की वार्षिक बैठक संत पापा फ्राँसिस के विश्वपत्र "फ्रातेल्ली तुत्ती" से प्रेरित थी और बंधुत्व के नाम पर सम्पन्न हुई थी।

संगठन के नए अध्यक्ष टोंगा से कार्डिनल सोने पतिता पेनी माफ़ी हैं। वाटिकन रेडियो के लिंडा बोर्डोनी से बात करते हुए, उन्होंने फोरम के दौरान नर्णय लिये गए दो मुख्य मुद्दों पर प्रकाश डाला: क्षेत्र और लोगों पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव और कोविड -19 महामारी।

कार्डिनल पेनी माफ़ी ने कहा, "पर्यावरण संरक्षण, हमारे आम घर की देखभाल हमेशा ओशिनिया में सर्वोच्च प्राथमिकता है। हमारे मुख्य खजाने में से एक महासागर है। लोगों की आजीविका के मुख्य स्रोत के साथ-साथ हमारा घर है।"

उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन तेजी से प्राकृतिक आपदाओं का कारण बनता है और इस क्षेत्र में जो हमेशा मानसून, उष्णकटिबंधीय चक्रवात और अन्य चरम मौसम के पैटर्न से प्रभावित रहा है, जिसके परिणामस्वरूप बड़ी संख्या में लोग गंभीर रूप से प्रभावित हुए हैं।

विविधता और एकता

कारितास ओशिनिया, कारितास ऑस्ट्रेलिया, कारितास पापुआ न्यू गिनी, कारितास समोआ, कारितास एओटेरोआ-न्यूजीलैंड, कारितास पैसिफिक आइलैंड्स (सीईपीएसी) और कारितास टोंगा को एक साथ लाता है।

कार्डिनल पेनी माफ़ी ने कहा, "उनके पास बहुत कुछ है," लेकिन वे बहुत विविध भी हैं।  क्योंकि वे विभिन्न जातीय समूहों के घर हैं, विशेष रूप से पॉलिनेशियन और माइक्रोनेशियन क्षेत्रों के भीतर, "इसलिए हम संस्कृति में अपनी विविधता के साथ समृद्ध हैं।" लेकिन उनमें बहुत कुछ समान है, हम सभी इस विशाल महासागर, प्रशांत महासागर में हैं, और मुझे लगता है कि विश्वास हमारी सांप्रदायिकता का एक मजबूत तत्व है। ओशिनिया के अधिकांश निवासी ख्रीस्तीय हैं, उनमें से लगभग एक तिहाई काथलिक हैं।"

एक सामूहिक प्रयास

उन्होंने बात जारी रखते हुए कहा कि सात अलग-अलग कारितास कार्यालय मिलकर कारितास ओशिनिया परिवार बनाते हैं। वार्षिक फोरम एक विशेष समय है जब हम एक साथ आते हैं और अपने अनुभवों को साझा करते हैं, जिस तरह से हम इन आम मुद्दों जैसे पर्यावरणीय आपदाएँ, चक्रवात और तूफान को संभालते हैं या उनका सामना करते हैं। इसलिए जब हम एक साथ आते हैं, तो हम अपने मतभेदों के बावजूद सामूहिक प्रयास की तलाश करते हैं।"

 उन्होंने समझाया कि हमारी कारितास ओशिनिया फोरम क्षेत्रीय रणनीति के समर्थन के साथ समाप्त हुआ, जिसमें प्राथमिकताएं पर्यावरण संरक्षण, महिलाओं और युवाओं पर भी केंद्रित थीं।

उन्होंने कहा, "हम समुद्र द्वारा विभाजित और बिखरे हुए हैं, लेकिन हमें अपने मुद्दों से निपटने के तरीके खोजने चाहिए, इसलिए इस वर्ष का विषय "हमारे कारितास ओशिनिया परिवार में भाईचारा सहयोग"  था। भाईचारे की भावना में एक साथ आने और एक दूसरे की बातें सुनने का एक अनमोल अवसर था।

कार्डिनल माफ़ी ने बताया कि सदस्यों को अलग करने वाली विशाल भौगोलिक दूरियों के बावजूद, "फ्रातेल्ली तुत्ती" संदेश सभी को प्राप्त हुआ है।

उन्होंने कहा, "यह सुनना काफी प्रेरणादायक है कि विश्वपत्र कितने लोगों तक पहुँच गया है" लेकिन एक चुनौती है कि इसे स्थानीय भाषाओं में अनुवाद करना है। हमें अच्छे अनुवादकों की आवश्यकता है ताकि लोग संदेश को ठीक से समझ सकें।

कोविड -19

कार्डिनल माफ़ी ने कहा कि मौजूदा कोरोनावायरस महामारी ने इस क्षेत्र को विशेष रूप से पर्यटन और आर्थिक दृष्टिकोण से प्रभावित किया है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य आपातकाल, कारितास और काथलिक राहत सेवाओं के सहयोगात्मक कार्य से कम हो गया है, जो सुरक्षात्मक उपायों को लागू करने और पूरे द्वीपों में उपकरण और सैनिटाइज़र प्रदान करने में बहुत कामयाब रहे हैं,  वायरस आदिवासी लोगों और उनकी संस्कृतियों को नष्ट कर सकता है।

उन्होंने कहा, "यह देखना और सीखना आश्चर्यजनक है कि कैसे यह साझेदारी सबसे कमजोर और दूरस्थ समुदायों की मदद कर रही है, उन्हें वह सब कुछ प्रदान कर रही है जो आवश्यक है।"

कार्डिनल ने अंत में कहा, "हम इतिहास के इन अंधकारमय और उदास समय को कोविड -19 के साथ साझा करते हैं।" लेकिन फ्रातेल्ली तुत्ती हमें अपने जीवन को एक नये तरीके से देखने के लिए प्रेरित करती है, भाईचारे की भावना में एक दूसरे के प्रति दया दिखाती है। हमें प्यार करने की जरूरत है। पारिवारिक इकाइयों में बुनियादी बातों पर वापस जाने की जरुरत है।”

02 August 2021, 15:04