खोज

Vatican News
येसु का पवित्र हृदय येसु का पवित्र हृदय 

कोलोम्बिया, येसु के पवित्र हृदय के प्रति समर्पण दुहरायेगा

कोलोम्बिया के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने सभी काथलिकों को निमंत्रण दिया है कि वे 11 जून को येसु के पवित्र हृदय के महापर्व के अवसर पर, कोलोम्बिया के प्राचीन महागिरजाघर में पवित्र यूखरिस्त में भाग लें। जहाँ देश को येसु के पवित्र हृदय को समर्पित किया जाएगा। महाधर्माध्यक्ष, धर्माध्यक्ष, पुरोहित एवं धर्मसमाजी, सभी परिवारों, पल्ली समुदायों एवं देश को समर्पित करेंगे। साथ ही साथ, महामारी के अंत एवं कोलोम्बियाई लोगों के स्वास्थ्य के लिए भी प्रार्थना करेंगे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

कोलोम्बिया, बृहस्पतिवार, 10 जून 2021 (रेई)- यूखरीस्तीय समारोह को टेलीविजन चैनल : आर सी एन, काराकोल, क्रिस्तोविजन, तेलेयामिगा और तेले विद एवं महाधर्मप्राँत, धर्मप्रांत, प्रेरितिक विकारियेट, धर्मसमाजी समुदाय, प्रेरितिक मूवमेंट एवं अन्य कलीसियाई संगठन द्वारा प्रसारित किया जाएगा।

कोलोम्बिया में पवित्र हृदय को पहली बार सन् 1902 में बोगोटा के महाधर्माध्यक्ष बेरनार्दो हेर्रेरा रेसत्रेपो द्वारा समर्पित किया गया था। इसे 1899 में शुरू हुए "हजार दिनों के युद्ध" के अंत के लिए प्रार्थना के रूप में किया गया था। तीन सालों तक खूनी एवं विनाशकारी युद्ध के बाद देश की स्थिति बहुत खराब हो गई थी और एक वास्तविक राष्ट्रीय आपदा में बदलने का खतरा था।

बोगोटा के महाधर्माध्यक्ष ने राष्ट्र के प्रमुख जोश मानुएल मार्रोक्विन से अपील की है कि वे कोलोम्बियावासियों को एकजुट करने के लिए येसु के पवित्र हृदय के पास आयें। 22 जून 1902 को कोलोम्बिया को पहली बार पवित्र हृदय को समर्पित किया गया था और उसी दिन राष्ट्रीय गिरजाघर की नींव डाली गई थी। समर्पण के 5 माह बाद 21 नवम्बर 1902 को विंस्कोनसिन के समझौते पर हस्ताक्षर किया गया था जिसके बाद युद्ध समाप्त हो गया था तथा देश में शांति और सौहार्द की शुरूआत हुई थी।

10 June 2021, 15:14