Vatican News
ब्राजील का एक गिरजाघर ब्राजील का एक गिरजाघर  (AFP or licensors)

ब्राजील की कलीसिया द्वारा कोविड-19 के शिकार लोगों के लिए प्रार्थना

ब्राजील में कोविड-19 से करीब 17.5 मिलियन लोगों के संक्रमित होने तथा करीब आधा मिलियन लोगों की मौत के बाद, वह जल्द ही कोरोनावायरस से मरनेवालों की निराशाजनक सीमा को पार कर जाएगा।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

ब्राजील, बृहस्पतिवार, 17 जून 2021 (वीएनएस)- बहुत अधिक आशा एवं सांत्वना की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, ब्राजील के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने एक विशेष प्रार्थना दिवस का आह्वान किया है तथा ब्राजील में मौत के शिकार लोगों की याद करने तथा "हरेक जीवन महत्वपूर्ण है" के संदेश पर जोर दिया है।

मृतकों के लिए विशेष मिस्सा

यह पहल जिसको अन्य संगठनों का भी अपना समर्थन प्राप्त है, 19 जून को मनाया जाएगा। उस दिन ब्राजील के सभी धर्मप्रांतों में मृतकों के लिए एक विशेष मिस्सा अर्पित किया जाएगा।  

देश के सभी गिरजाघरों और पल्लियों की घंटियाँ दोपहर 3.00 बजे एक साथ बजायी जायेंगी। इस समय को करुणा की घड़ी के रूप में लिया गया है जब क्रूस पर येसु की मृत्यु हुई थी।

एकात्मता, आशा एवं समर्पण का भाव

ब्राजील की काथलिक कलीसिया के महासचिव एवं रियो दी जानेइरो के सहायक धर्माध्यक्ष जोएल पोरतेल्ला अमादो ने बतलाया कि इसका अर्थ होगा, "एकात्मता, आशा और समर्पण का भाव प्रकट करना ताकि ब्राजील को एक बेहतर देश बनाया जा सके।"

धर्माध्यक्ष के अनुसार, सभी लोग अपने हृदय में थोड़ी संवेदना के साथ, कुछ समय के लिए रूकें और चिंतन करें कि 5 लाख एक चिन्ह है बल्कि एक झकझोरने वाली संख्या है क्योंकि 5 लाख लोगों का मरना निश्चय ही बहुत बड़ी संख्या है।  

अतः प्रार्थना एक रास्ता है जिसके द्वारा वायरस से प्रभावित लोगों एवं उनके परिवारों के प्रति सामीप्य एवं एकात्मता प्रकट किया जा सके, जिन्होंने स्वास्थ्य सुविधा की कमी, वैक्सीन मिलने में देरी, व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण के अभाव एवं सामाजिक दूरी रखने और मास्क लगाने में लापरवाही के कारण अपने प्रियजनों को खो दिया है।

धर्माध्यक्ष ने कहा, "यह प्रार्थना दिवस हरेक व्यक्ति को, चाहे वे विश्वास करते हों अथवा नहीं, एक अवसर प्रदान करेगा कि जो हुआ है उसके लिए वे रूकें, उसकी याद करें और उसपर चिंतन करें।"

महामारी अव्यवस्था पर टिप्पणी

कोविड-19 फैलने की गंभीरता पर ध्यान नहीं देने के लिए ब्राजील की कलीसिया ने सरकार की अव्यवस्था की बार-बार आलोचना की है और वायरस के प्रसार को रोकने के लिए अधिक प्रभावी प्रतिक्रिया एवं सख्त उपाय करने का आह्वान किया है।

ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो ने बीमारी की गंभीरता पर लगातार कम ध्यान दिया और कड़े सुरक्षात्मक उपायों से इनकार किया है। वर्तमान में, 10% आबादी को ही टीका लगाया गया है।

17 June 2021, 15:54