खोज

Vatican News
हैती के विश्वासी  प्रार्थना करते हुए हैती के विश्वासी प्रार्थना करते हुए 

हैती में पुरोहितों और धर्मबहनों को नए अपहरण का भय

हैती में गत रविवार को पुरोहितों धर्मबहनों और लोकधर्मियों के अपहरण के बाद पुरोहित और धर्मबहनें अपहरण के भय में जी रहे हैं। हिंच धर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष डीसिनॉर्ड ने एसीएस से कलीसिया को समर्थन देने की अपील करते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

हैती-हिंच, सोमवार 19 अप्रैल 2021 (वाटिकन न्यूज) : हैती में, पुरोहित और धर्मबहनें भय में जी रहे हैं। पिछले रविवार को राजधानी पोर्ट-ए-प्रिंस के पास क्रॉनिक्स-डेस-बाउक्वेट्स में, 5 पुरोहितों, 2 धर्मबहनों और 3 लोकधर्मी लोगों के अपहरण के बाद, काथलिक पुरोहितों में अपहरण का डर है।

अपहरण में बढ़ोतरी

 पोर्ट-ए-प्रिंस के उत्तर में, हिंच धर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष जीन डिसिनॉर्ड ने एसीएस (एड टू द चर्च इन नीड इंटरनेशनल) को बताया, “हमें आश्चर्य है कि अगला अपहरण किसे किया जाएगा? मैं या मेरे पुरोहित होंगे? पुरोहितों और धर्मबहनों को मनोविकृति का खतरा है। हम लगातार आतंक में जा रहे हैं।” अपहरण हाल ही में बढ़ी है और इस समस्या का कोई त्वरित या आसान समाधान नहीं है। उन्होंने कहा "कलीसिया केवल कानून और व्यवस्था की गारंटी के लिए राजनीतिक नेताओं से अपील कर सकती है।"  धर्माध्यक्ष डिसिनॉर्ड ने स्पष्ट किया कि सबसे हाल ही में अपहरण व्यापक रूप से अवैधता और "केवल पैसे प्राप्त करने का एक तरीका" है, भले ही विशुद्ध रूप से राजनीतिक कारणों को बाहर नहीं किया जा सकता है। हिंच के धर्माध्यक्ष ने कहा कि हैती की कलीसिया का अपना प्रेरितिक मिशन है। उसे उन भयानक परिस्थितियों की सूचना देनी चाहिए जिनमें वे रहते हैं और इसलिए यह भी संभव है कि यह कुछ नेताओं के फायदे के लिए यह कराया जा रहा है। हम निश्चित रूप से नहीं जान सकते। लेकिन सभी जानते हैं कि हमारे राजनेता कुछ क्षेत्रों को नियंत्रित करने के लिए आपराधिक गिरोहों का उपयोग करते हैं। संगठित अपराध और राजनीति के बीच की सीमा तरल है।”

एसीएस द्वारा सहायता

धर्माध्यक्ष डिसिनॉर्ड ने हैती वासियों के लिए ईस्टर के दिन संत पापा की अपील को याद करते हुए, एसीएस के दानदाताओं से अपील की कि वे हैती लोगों का साथ दें। "एसीएस हमारे इतिहास में इस कठिन क्षण में हमारे पक्ष में है,कृपया अपनी एकजुटता एवं समर्थन देना जारी रखें।” हैती आज अमेरिकी महाद्वीप पर सबसे गरीब देश है, समूह अपराध और अपहरण के एजेंडे पर है। सरकार और विपक्ष के बीच गंभीर राजनीतिक तनाव अस्थिरता का कारण बना हुआ है। एसीएस वर्षों से अपने प्रेरितिक और मानवीय मिशन में कठिनाई में पड़ी कलीसिया का समर्थन कर रहा है। पिछले साल ही, 550 हजार से अधिक यूरो से 30 विभिन्न परियोजनाओं का समर्थन किया। अपने दानदाताओं की उदारता से, एसीएस वाहनों की खरीद और रख-रखाव, कोविद -19 आपातकाल के लिए आपातकालीन सहायता, पुरोहितों के लिए वेतन, लोकधर्मियों के लिए शिक्षण और प्रचारकों व सेमिनरियों केप्रशिक्षण कार्यक्रमों में मदद करने में सक्षम हुआ।

19 April 2021, 16:30