Vatican News
यांगून में प्रदर्शनकारियों को खदेड़ती सेना बल यांगून में प्रदर्शनकारियों को खदेड़ती सेना बल 

यूरोपीय धर्माध्यक्षों द्वारा म्यांमार दमन समाप्त करने की मांग

यूरोप के धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के 32 राष्ट्रीय न्याय और शांति आयोगों के नेटवर्क ने लोकतंत्र की बहाली हेतु म्यांमार के लोगों के साथ अपनी एकजुटता व्यक्त की है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाशिंगटन, बुधवार 3 मार्च 2021 (वाटिकन न्यूज) : यूरोपीय धर्माध्यक्षीय सम्मेलन का न्याय और शांति आयोग (न्याय और शांति यूरोप), म्यांमार में शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बल के उपयोग और देश में लोकतंत्र की वापसी के लिए नागरिकों की आवाज को मजबूत करते हुए उनके साथ एकजुट हो गये हैं।

 1 फरवरी को सैन्य तख्तापलट के बाद नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी (एनएलडी) की नेता आंग सान सू की को हटा दिया गया। सैन्य तख्तापलट के खिलाफ एक महीने से शांतिपूर्ण प्रदर्शन में रविवार को कम से कम 18 प्रदर्शनकारियों की हत्या के साथ नाटकीय रूप से हिंसा बढ़ गई। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (ओएचसीएचआर) द्वारा हिंसा की निंदा की गई थी।

नफरत कभी भी नफरत को दूर नहीं करती

 म्यांमार के धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष यांगून के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल चार्ल्स बो ने हिंसा को रोकने और सुलह के लिए एक नया आह्वान किया। चालीसा के दूसरे रविवार को अपने प्रवचन में, उन्होंने "आशा और शांति बनाते हुए कठिन जीवन में लौटने की आवश्यकता" पर जोर देते हुए कहा कि सभी म्यांमार के लोगों को "मेल-मिलाप और बातचीत" के लिए अपने मन को बनाना चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी कि "केवल प्यार" की भावना होनी चाहिए। क्योंकि "आंख के बदले आंख, पूरी दुनिया को अंधा बना देगी।"

न्याय और शांति यूरोप: आम भलाई को बढ़ावा

अपने बयान में, यूरोपीय न्याय और शांति आयोग न्यांमार के नवीनतम रिपोर्टों पर चिंता व्यक्त करते हैं, जो हिंसा में उल्लेखनीय वृद्धि और समाज और नागरिकों के हताहत और पीड़ित होने का संकेत देते हैं और "लोकतंत्र की रक्षा में शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के साथ म्यांमार के लोगों का समर्थन" और "एकजुटता" के लिए उनका समर्थन करते हैं।”।

वे संत पापा फ्राँसिस की 7 फरवरी की अपील में शामिल होते हैं, जो एक सामंजस्यपूर्ण और लोकतांत्रिक सह-अस्तित्व के मद्देनजर सामाजिक न्याय और राष्ट्रीय स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए "सामान्य लोगों की सेवा करने की प्रबल इच्छा" दिखाते हैं।

लोकतांत्रिक शासन, संवाद पर लौटें

यूरोपीय न्याय और शांति आयोग भी "सभी राजनीतिक कैदियों की शीघ्र रिहाई" का आग्रह करता है और सैन्य अधिकारियों को म्यांमार के काथलिक धर्माध्यक्षों के आह्वान "लोकतांत्रिक सिद्धांतों का पालन करते हुए और मानवीय अधिकारों का पूरी तरह से सम्मान करते हुए, हिंसा से दूर रहने और सुलह की मांग, जीवन का अधिकार, यातना का निषेध, विधानसभा, मीडिया और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का समर्थन करता है।”

म्यांमार पर यूरोपीय संघ की परिषद के हालिया निष्कर्षों का स्वागत करते हुए, यूरोपीय न्याय और शांति आयोगों ने यूरोपीय संघ को "वैध लोकतांत्रिक संस्थानों को सत्ता के शांतिपूर्ण और शीघ्र बहाली की सुविधा के मद्देनजर प्रमुख हितधारकों के साथ बातचीत के सभी चैनलों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया" ।

सैन्य तख्तापलट के बाद से, अवैध रूप से वॉकी-टॉकीज़ आयात करने और कोविद -19 महामारी  के दौरान अवैध विरोध प्रदर्शन आयोजित करने के आरोप में आंग सान सू की सहित 350 से अधिक अधिकारियों, कार्यकर्ताओं और धर्मसंघियों को गिरफ्तार किया गया है।

03 March 2021, 14:44