खोज

Vatican News
जर्मनी का एक गिरजाघर जर्मनी का एक गिरजाघर  (ANSA)

धार्मिक स्वतंत्रता व्यक्ति की गरिमा में निहित अधिकार,धर्माध्यक्ष

यूएससीसीबी में धार्मिक स्वतंत्रता के लिए बनी समिति के अध्यक्ष कार्डिनल तिमोथी ने 16 जनवरी को मनाए गये "राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता दिवस" के अवसर पर एक बयान जारी कर देश की महान विरासत धार्मिक स्वतंत्रता के लिए खुद को प्रतिबद्ध करने को कहा।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

न्यूयॉर्क, सोमवार 18 जनवरी 2021 (रेई) : "धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार उस मानव व्यक्ति की गरिमा में निहित है जिसका कर्तव्य सत्य की तलाश है" उक्त बात न्यूयॉर्क के महाधर्माधअयक्ष कार्डिनल तिमोथी एम. डोलन ने कही। वे संयुक्त राज्य के धर्माध्यक्षीय सम्मेलन(यूएससीसीबी) में धार्मिक स्वतंत्रता के लिए बनी समिति के अध्यक्ष भी हैं।

कार्डिनल तिमोथी ने 16 जनवरी को मनाए गये "राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता दिवस" ​​के अवसर पर एक बयान जारी किया। कार्डिनल तिमोथी ने कहा, "हमारा देश राजनीतिक और सांस्कृतिक गुटों द्वारा बंट गया है, जिसके परिणामस्वरूप प्रतिस्पर्धी समूह सत्य की तलाश में नहीं हैं, बल्कि शक्ति के पीछे हैं"। इतना ही नहीं,"वस्तुनिष्ठ सत्य की अपील को उत्पीड़न के प्रयासों के रूप में माना जाता है" और इनका "पसंदीदा हथियार" है "कहानियों का आविष्कार।" इसके विपरीत, "सत्य, हमारे कानून और हमारी राजनीति का आधार है शक्ति नहीं, यहां तक ​​कि एक बहुलवादी समाज में भी।"

धार्मिक स्वतंत्रताःसंवाद

कार्डिनल तिमोथी ने संत पापा फ्रांसिस के विश्वपत्र, "फ्रतेल्ली तुत्ती", के एक अंश को उद्धृत करते हुए कहा: "समाज के भविष्य के लिए, मानव गरिमा के सत्य के प्रति हार्दिक सम्मान विकसित किया जाना होगा, जिसे हम प्रस्तुत करते हैं (…) एक बहुवादी समाज में पहचान पाने के लिए संवाद सबसे उपयुक्त तरीका है जिसका हमेशा पुष्टि और सम्मान किया जाना चाहिए। इसलिए इस तथ्य पर कार्डिनल तिमोथी का आह्वान है कि "धार्मिक स्वतंत्रता उस संवाद के लिए स्थान खोलती है, जिससे बड़े समाज में समुदायों को उनके विश्वास के अनुसार जीने की अनुमति मिलती है। जब समाज में संवाद का स्थान सीमित होता है, तो समाज को दुख सहना पड़ता है।” अपने बयान के अंत में कार्डिनल डोलन ने आशा व्यक्त करते हुए अपील की कि "धार्मिक स्वतंत्रता के दिन अमेरिकी काथलिक और भली इच्छा वाले सभी लोग हमारे देश की महान विरासत धार्मिक स्वतंत्रता के लिए खुद को प्रतिबद्ध करें।"

स्थापना दिवस

आधिकारिक तौर पर स्थापित यह "दिवस" ​​16 जनवरी 1786 को वर्जीनिया महासभा द्वारा धार्मिक स्वतंत्रता के लिए क़ानून को स्वीकार करते हुए, 1993 में अपनाया गया था। यह दस्तावेज संयुक्त राज्य अमेरिका के संविधान के पहले संशोधन के संस्थापक खंड के लिए आधार बन गया, जो अन्य सिद्धांतों के साथ, धर्म और इसके स्वतंत्र अभ्यास के संबंध में कानून की निष्पक्षता की गारंटी देता है।

18 January 2021, 14:46