Vatican News
फिलिपींस के महाधर्माध्यक्ष रोमुलो बोलते हुए फिलिपींस के महाधर्माध्यक्ष रोमुलो बोलते हुए  (AFP or licensors)

धर्माध्यक्षों ने क्रांतिकारी सरकार के आह्वान के खिलाफ दी चेतावनी

राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते के समर्थकों की एक बैठक के बाद एक क्रांतिकारी सरकार का डर फिर से फिलीपींस में उभर आया है। फिलीपींस में कई काथलिक धर्माध्यक्षों ने राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते के समर्थकों द्वारा एक क्रांतिकारी सरकार के आह्वान पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि यह देश की स्थिति में सुधार के बजाय केवल "अराजकता" लायेगा।

माग्रेट सुनीता मिंज - वाटिकन सिटी

मनिला, बुधवार 26 अगस्त 2020 (वाटिकन न्यूज) : 22 अगस्त को पाम्पांगा में राष्ट्रपति दुतेर्ते की अगुवाई में चली एक सभा के बाद फ़िलीपींस में एक क्रांतिकारी सरकार की स्थापना निश्चित समझी जा रही है जो लम्बे समय से विवाद में थी। "समाज की सभी बीमारियों" को ठीक करने की आवश्यकता का हवाला देते हुए, दूतेर्ते के समर्थक चाहते हैं कि राष्ट्रपति अपनी खुद की संवैधानिक रूप से जनादेश वाली सरकार को उखाड़ फेंके, संविधान और जो कुछ भी उसके लिए खड़ा है उसे खत्म कर दे।

वास्तविक समस्याओं का सामना

फिलीपींस में कई काथलिक धर्माध्यक्षों ने राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते के समर्थकों द्वारा एक क्रांतिकारी सरकार के आह्वान पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि यह देश की स्थिति में सुधार के बजाय केवल "अराजकता" लायेगा।

कारितास फिलीपींस के निदेशक, किडापावन के धर्माध्यक्ष जोस कॉलिन बागाफोरो  ने कहा कि समर्थकों की मांग न केवल देशद्रोह को उकसा रहा है, बल्कि यह सरकार को बर्बाद करेगा। उन्होंने चेतावनी दी कि देश की वास्तविक समस्याओं को हल करने के बजाय, एक क्रांतिकारी सरकार "निहित स्वार्थों को सही ठहराने के लिए फिलीपीन के लोगों को प्यादों के रूप में उपयोग करेगी।"

धर्माध्यक्ष बगाफोरो ने कहा कि राष्ट्र को विभाजित करने पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित करने के बजाय, दूतेर्ते को अधिक कुशलता से कोविद-19 महामारी को रोकने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए, मंदी के खिलाफ निजी क्षेत्र का समर्थन करना, शिक्षा की सहायता के लिए सरकारी धन को बढाना और मानवाधिकारों की रक्षा को बेहतर करना चाहिए। कारितास प्रमुख ने फ़िलिपीन वासियों को लोकतंत्र और लोगों के कल्याण के खिलाफ काम करने वालों के प्रति आवाज उठाने का आग्रह किया।

राष्ट्र के साथ विश्वासघात

 मनिला महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष और प्रेरितिक प्रशासक ब्रोडरिक पाबिलो भी धर्माध्यक्ष बागाफोरो के साथ सहमत हैं। एक क्रांतिकारी सरकार को अन्यायपूर्ण, अनैतिक और देशद्रोही बताते हुए उन्होंने कहा कि इस तरह का कृत्य राष्ट्र के साथ विश्वासघात है।

ओज़ामिज़ महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष मार्टिन जुमाद ने कहा कि सरकार को महामारी और मौजूदा स्वास्थ्य संकट पर ध्यान देना चाहिए।  बलंगा के धर्माध्यक्ष रूपर्टो संतोस ने कहा कि यह प्रस्ताव न केवल असंवैधानिक है, बल्कि एक "खुली स्वीकारोक्ति है कि वर्तमान सरकार विफल हो चुकी है। वे सिर्फ सरकारी अधिकारियों को स्थापित करने के लिए सरकार बदलना चाहते हैं।”

राष्ट्रपति फर्डिनेंड मार्कोस की तानाशाही शासन के तहत लोगों के कड़वे अनुभवों को याद करते हुए, सोरसोगन के सेवानिवृत्त धर्माध्यक्ष आर्तुरो बास्टेस ने चेतावनी दी कि अगर क्रांतिकारी सरकार की स्थापना हुई तो देश का बहुत बुरा हाल होगा। ।

नोवालिच के सेवानिवृत्त धर्माध्यक्ष तियोदोरो बाकानी ने एक क्रांतिकारी सरकार के समर्थकों को "पागल" कहा।

अन्य समूहों द्वारा अस्वीकार

फिलीपींस के एकीकृत बार (आईबीपी) के अनुसार, जो देश के सभी वकीलों को एक साथ लाता है, "वर्तमान परिस्थितियों में एक क्रांतिकारी सरकार के लिए कोई कानूनी, तथ्यात्मक, व्यावहारिक या नैतिक आधार नहीं है।" आईबीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डोमिंगो एगोना केओसा ने एक बयान में कहा, "अगर राष्ट्रपति सही मायने में उस देश की परवाह करते हैं, जिसकी उन्होंने सेवा करने की कसम खाई है, तो उन्हें वर्तमान की जटिल समस्याओं को सुलझाने पर ध्यान देना चाहिए और वास्तविक काम पर वापस जाना चाहिए।"

फिलीपीन राष्ट्रीय पुलिस और राष्ट्रीय रक्षा विभाग दोनों ने कहा है कि वे एक क्रांतिकारी सरकार के लिए किसी भी प्रस्ताव का समर्थन नहीं करेंगे।

26 August 2020, 13:24