खोज

Vatican News
येसु समाज के सुपीरियर जेनेरल फादर अर्तूरो सोसा अपने जेस्विट भाइयो को सम्बोधित करते हुए येसु समाज के सुपीरियर जेनेरल फादर अर्तूरो सोसा अपने जेस्विट भाइयो को सम्बोधित करते हुए 

संत इग्नासियुस के पर्व पर जेस्विट सुपीरियर जेनेरल का संदेश

येसु समाज के संस्थापक संत इग्नासियुस लोयोला के पर्व दिवस के उपलक्ष्य में 31 जुलाई को धर्मसमाज के सुपीरियर जेनेरल फादर अर्तूरो सोसा ने एक चिंतन प्रस्तुत किया है। इस साल इस चिंतन में मन-परिवर्तन के आयाम पर प्रकाश डाला गया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 1 अगस्त 2020 (रेई)- फादर सोसा ने लिखा, "संत इग्नासियुस की याद करते हुए एवं उनका पर्व मनाते हुए यह इग्नेशियन वर्ष पर चिंतन पेश करने का एक अवसर है जो अगले साल मई महीने में शुरू होगा। इग्नेशियन वर्ष 2021-2022 के समय का पूरा फायदा उठाने का असर दे रहा है। यह एक अपील है कि हम प्रभु को अपना मन परिवर्तन करने दें। हम कृपा मांगे कि प्रभु द्वारा नवीकृत किये जायें। हम एक नये आंतरिक एवं प्रेरितिक उत्साह जगाना चाहते हैं, एक नया जीवन और प्रभु का अनुसरण करने के लिए नये रास्ते पर चलना चाहते हैं। यही कारण है कि हमने इस साल के लिए जो आदर्श वाक्य चुना है वह इस प्रकार है, "ख्रीस्त में सभी चीजों को नये रूप में देखना।"

बदलाव की जरूरत  

सुपीरियर जेनेरल ने लिखा, "हम जानते हैं कि उन्हें आत्मसात करने के लिए हम प्रत्येक जन को अपने समुदाय, संस्थान और प्रेरितिक कार्यों में बदलाव लाने की जरूरत है। हम प्रार्थना करते हैं कि हमारे दैनिक जीवन एवं मिशन में सच्चा परिवर्तन आये।"

फादर सोसा ने उन सभी लोगों को सम्बोधित किया जिनसे प्रेरिताई क्षेत्र में मुलाकात होती है। उन्होंने कहा, "इग्नेशियन वर्ष में हम उस मूल अनुभव को साझा करने की उम्मीद करते हैं जिसके आधार पर धर्मसमाज की प्ररितिक ईकाई, ख्रीस्त में सभी चीजों से मेल मिलाप करने के मिशन में सहभागी होती है। आप में से कई लोग इस प्रेरणा के साथ गहरा जुड़ाव महसूस करते हैं, इस करिश्मे के साथ जो येसु समाज को जीवन देता है। मैं इस कृपा के लिए, आप सभी के उत्साह एवं सामीप्य के लिए प्रभु को धन्यवाद देता हूँ। हम इग्नेशियन वर्ष का लाभ उठाना चाहते हैं ताकि आप प्रत्येक में पवित्र आत्मा के कार्यों को देख सकें जिससे कि आप इस अपील को अच्छी तरह सुन सकें।"

युवाओं को साथ देना चाहते हैं

युवाओं से फादर सोसा ने कहा है कि हम आपको साथ देना सीखना चाहते हैं। आपसे सीखना चाहते हैं। आप प्रत्येक अनूठे हैं और एक खास योजना के साथ जन्म लिये हैं। संत इग्नासियुस ने अपने जीवन के अर्थ को खोजने के लिए संघर्ष किया। आप भी उनसे प्रेरणा ले सकते हैं जब आप अपने जीवन को अर्थपूर्ण बनाने की कोशिश कर रहे हैं और एक बेहतर विश्व के निर्माण के लिए अपना योगदान देना चाहते हैं जिसमें लोगों की प्रतिष्ठा का सम्मान किया जाता तथा प्रकृति के साथ आनन्द से सामंजस्य स्थापित किया जाता है। हम अपने सभी क्रिया-कलापों के द्वारा आपका साथ देना चाहते हैं आपके साथ अपना समय, स्वप्न एवं आशा बांटना चाहते हैं।  

संत इग्नासियुस के लिए गरीबी का जीवन    

जेस्विट धर्मसमाज के सभी सदस्यों को सम्बोधित करते हुए सुपीरियर जेनेरल ने कहा कि इग्नेशियन वर्ष, तीर्थयात्री संत इग्नासियुस द्वारा प्रेरित होने के लिए एक नया आह्वान देता है। उनका आंतरिक संघर्ष एवं उनका मन-परिवर्तन ने, उन्हें ईश्वर के अधिक करीब लाया। इस करीबी और उनके प्रति अत्यधिक प्रेम ने सभी चीजों में ईश्वर की खोज करने, दूसरों को प्रशिक्षित करने, उन्हें एकता में लाने, प्रेरितिक ईकाई तैयार करने एवं प्रेरितिक उत्साह से भर जाने के लिए प्रेरित किया। हम इस कारिज्म के वारिस हैं और जिस समय में जी रहे हैं इसकी वैधता के लिए जिम्मेदार हैं।  

संत इग्नासियुस के लिए गरीबी का जीवन प्रभु येसु के साथ संयुक्ति की अभिव्यक्ति है। शब्दों से अधिक उनकी गरीबी एक आंतरिक परिवर्तन थी, प्रभु के सामने उनकी दीनता, ईश्वर की इच्छा का अनुसरण और एक मनोभाव कि सब कुछ ऊपर से उपहार के रूप में आता है।

येसु समाज के वर्तमान सदस्य सुसमाचारी गरीबी की कृपा को कैसे ग्रहण कर सकते और जी सकते हैं?

येसु के करीब आने के द्वारा जैसा कि संत इग्नासियुस एवं प्रथम सदस्यों ने किया। येसु के साथ एक गहरी मित्रता संभव है यदि हम इसकी कामना करते एवं लगातार इसकी मांग करते हैं जैसा कि हमने आध्यात्मिक साधना में सीखा है। यह गहरा संबंध न सिर्फ शांतिपूर्ण आनन्द उठाने का अवसर देता बल्कि इसके विपरीत यह एक ऐसा संबंध है जो हमें येसु को प्यार करने और अधिक निकटता से उनका अनुसरण करने की शक्ति देता है, खासकर, सबसे गरीब और हाशिये पर जीवनयापन करनेवाले लोगों एवं पृथ्वी की पुकार पर ध्यान देने के द्वारा। प्रथम समुदाय के लिए गरीबी का जीवन हमेशा गरीबों की मदद करने से जुड़ा था। यह कारिज्म का मूल भाग है जिसको हमने प्राप्त किया है।       

सार्वभौमिक प्रेरितिक प्राथमिकताओं के विचार द्वारा निर्देशित, हम गरीबों, वंचितों  को सुनने की चुनौतियों को स्वीकार करते हैं। फादर जेनेरल ने कहा है कि एक जेस्विट के रूप में हम अपने आप से पूछ सकते हैं कि नजदीकी बढ़ाने के लिए, समर्पित गरीबी से हमारे जीवन में परिवर्तन का क्या अर्थ है।

परिवर्तन संभव है

उन्होंने कहा, "प्यारे जेस्विट भाइयो, मिशन के साथियो, यह येसु समाज के लिए बदलाव लाने का समय है। यह सबसे अधिक पीड़ित हमारे एवं दूसरे भाई-बहनों के प्रति नये प्यार हेतु नई ऊर्जा, नई स्वतंत्रता, नई पहल का समय है। संत इग्नासियुस लोयोला और उनका मन-परिवर्तन हमें नई प्रेरणा प्रदान करता है। जी हाँ, परिवर्तन संभव है, हमारा पत्थर का हृदय मांस के हृदय में बदल सकता है। विकास हेतु हमारी दुनिया नया रास्ता पा सकती है। हम येसु के लिए, भाई, बहनों और मित्रों के लिए अपना हाथ समर्पित करें। हम एक अनिश्चित किन्तु आशातीत भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं, इस विश्वास के साथ कि वे हमारे साथ हैं और उसकी आत्मा हमारा मार्गदर्शन कर रही है।"  

01 August 2020, 13:56