खोज

Vatican News
पाकिस्तान का एक गिरजाघर पाकिस्तान का एक गिरजाघर  (AFP or licensors)

लाहौर महाधर्मप्रांत के गिरजाघर खुलेंगे 16 अगस्त को

लाहौर महाधर्मप्रांत में गिरजाघरों को पुनः खोलने की तैयारी हो रही है। महाधर्माध्यक्ष सेबास्तियन शो ने इसी माह में गिरजाघरों को पुनः खोलने का संकेत दिया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

पाकिस्तान, मंगलावार, 4 अगस्त 2020 (ऊकान) – गिरजाघर को पुनः खोलने की घोषणा प्रेरितिक पत्र द्वारा की गई एवं वीडियो संदेश के माध्यम से 1 अगस्त को काथलिक टीवी पाकिस्तान द्वारा प्रसारित किया गया।

महाधर्माध्यक्ष शो ने कहा, "ईश्वर को धन्यवाद हमने विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा बतलाये गये सलाहों का पालन किया और हमारी सरकार वायरस को फैलने से रोकने हेतु महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रही है। यह प्रमाणित करता है कि हम इससे लड़ सकते हैं।"

उन्होंने कहा, "सभी गिरजाघर रविवार 16 अगस्त को सार्वजनिक मिस्सा के लिए पुनः खोल दिये जाएंगे। जब आप गिरजा आते हैं तब सनिटाईजर लाने, मास्क लगाने एवं सामाजिक दूरी बनाये रखना न भूलें। मिस्सा पूजा का समय कम होगा। आवश्यकता के अनुसार मिस्साओं की संख्या बढ़ा दी जायेगी।"

15 अगस्त को महाधर्मप्रांत में माता मरियम के स्वर्गोदग्रहण पर्व के अवसर पर धन्यवादी मिस्सा अर्पित किया जाएगा। प्रधानमंत्री इमरान खान के राष्ट्रीय स्तर पर तालाबंदी की घोषणा के पहले, 15 मार्च से ही गिरजाघरों को बंद कर दिया था। कोरोना वायरस से पाकिस्तान में करीब 2,80,000 लोग संक्रमित हुए हैं और 6,000 मौतें हुई हैं।

19 मार्च को, राज्य और संघ सरकारों ने गिरजाघरों को सिर्फ रविवार के दिन खोलने की अनुमति दी थी। इसकी घोषणा काथलिक एवं प्रोटेस्टंट कलीसियाओं के धर्माध्यक्षों एवं अंतरधार्मिक सौहार्द के प्रतिनिधियों की सभा के बाद की गई थी।

हालांकि, महाधर्माध्यक्ष शो ने दैनिक ऑनलाईन प्रार्थना को अपनाया एवं धर्माध्यक्षीय आवास के सम्मेलन सभागार को अप्रैल माह में स्टूडियो-सह-चैपल के लिए समर्पित किया। पाकिस्तान एवं विदेशों से करीब 2000 विश्वासी, काथलिक टीवी पाकिस्तान के फेसबुक पेज पर हर दिन लाइव प्रार्थना भाग लेते थे।

सिन्ध के काराची महाधर्मप्रांत के गिरजाघरों में पिछले महीने से ही सामुहिक मिस्सा हो रहे हैं।   

संत पैत्रिक महागिरजाघर के रेक्टर फादर मारियो रोड्रीगस ने कहा, "दैनिक मिस्सा सिर्फ 30 मिनट का है जबकि रविवार को 45 मिनट लगता है। कलीसियाई समिति को उपायों का सख्ती से पालन कराने की जिम्मेदारी दी गई है।"

इस्लामाबाद-रावलपींडी धर्मप्रांत के अधिकांश गिरजाघरों को भी पिछला महीना खोल दिया गया, फिर भी रावलपींडी में संत जोसेफ काथलिक गिरजाघर में ऑनलाईन मिस्सा अब भी जारी है।

 

04 August 2020, 14:20