खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर 

वाटिकन रेडियो हिन्दी ने फा. कोंगाड़ी के निधन पर शोक व्यक्त किया

हजारीबाग के येसु समाजी फादर गौदेनसियुस कोंगाड़ी का निधन 12 अगस्त को, दिल का दौरा पड़ने पर हुआ। वे 86 साल के थे। उन्होंने साल 1984 में वाटिकन रेडियो के हिन्दी विभाग में अपनी महत्वपूर्व सेवा दी थी।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

हजारीबाग, बृहस्पतिवार, 13 अगस्त 20 (वीएन हिन्दी)- हजारीबाग प्रोविंस के सचिव फादर सुशील लकड़ा एस. जे. ने निधन की खबर देते हुए 12 अगस्त को लिखा, "मैं बड़े दुःख के साथ सूचित करता हूँ कि फादर गौदेनसियुस कोंगाड़ी एस. जे. (हजारीबाग) का निधन, आज दोपहर 2.40 बजे संत अन्ना अस्पताल उल्हातू, राँची में हुआ। उनका निधन दिल का दौरा पड़ने पर हुआ।"

फादर गौदेनसियुस कोंगाड़ी का जन्म 22 फरवरी 1934 को तोरपा में हुआ था। 20 जून 1954 को उन्होंने हजारीबाग येसु समाज में प्रवेश किया था तथा 12 मार्च 1967 को उनका पुरोहिताभिषेक सितागढ़ा में हुआ था। पुरोहिताभिषेक के बाद उन्होंने झारखंड के कई पल्लियों एवं संस्थाओं में सेवाएँ दीं। उन्होंने वाटिकन रेडियो के हिन्दी विभाग में भी अपना योगदान दिया था।

वाटिकन रेडियो हिन्दी विभाग ने उनके योगदान की याद करते हुए उनके निधन पर शोक व्यक्त किया तथा उनकी आत्मा की अनन्त शांति की कामना की।

फादर सुशील लकड़ा ने बतलाया कि 19 जून 2020 को फादर गौदेनसियुस कोंगाड़ी को अपनी पलंग के बगल में पाया गया था। यह एक छोटा स्ट्रॉक था। उसके बाद उन्हें तुरन्त कार्मेल अस्पताल महुँआडांड़ पहुँचाया गया, वहाँ प्राथमिक चिकित्सा के बाद, 22 जुलाई को बेहतर चिकित्सा हेतु रांची के ऑर्किंड अस्पताल में भर्ती किया गया। वहाँ रहते हुए जब कुछ सुधार होने लगा तब उन्हें डिसचार्ज किया गया और हजारीबाग के संत जेवियर समुदाय में रखा गया। 6 अगस्त को जाँच के लिए उन्हें फिर ऑर्किंड अस्पताल लिया गया किन्तु भोजन करने और चलने में दिक्कत होने पर, संत अन्ना अस्पताल उल्हातू में भर्ती किया गया। वहीं 12 अगस्त को उन्हें फिर दिल का दौरा पड़ा और उन्होंने अंतिम सांस ली।

फादर सुशील लकड़ा एस.जे ने फादर गौदेनसियुस की आत्मा की अनन्त शांति एवं उनके शोकित परिवार के लिए प्रार्थना करने का आग्रह किया है।

13 August 2020, 15:42