खोज

Vatican News
मानव तस्करी पर एक सम्मेलन 12.12.2019 मानव तस्करी पर एक सम्मेलन 12.12.2019 

अंतरराष्ट्रीय कारितास द्वारा मानव तस्करी में वृद्धि की रिपोर्ट

मानव तस्करी के खिलाफ विश्व दिवस की पूर्व संध्या पर, अंतरराष्ट्रीय कारितास और कोटनेट ने सरकारों से तस्करी और शोषण के शिकार लोगों की पहचान करने के प्रयासों को तेज करने का आग्रह किया है, जिनकी संख्या कोविद- महामारी के कारण चिंताजनक रूप से बढ़ रही है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रोम, बुधवार 29 जुलाई 2020 (रेई) : अंतरराष्ट्रीय कारितास के महासचिव, अलोसियुस जॉन का कहना है कि वे “COVID-19 के इस क्षण में, कमजोर लोगों के लिए एक पूर्वाग्रहपूर्ण वास्तविकता की निंदा करते हैं।महामारी के समय तस्करी की जोखिम में वृद्धि हुई है। महामारी पर ध्यान केंद्रित करते हुए भी हमें तस्करी और शोषण के लिए सबसे कमजोर लोगों की देखभाल को नहीं रोकना चाहिए। स्थानीय कारितास और कोटनेट के सदस्य दुनिया भर में उनकी देखभाल कर रहे हैं। महामारी के दौरान भी अन्य नागरिक समाज संगठनों के साथ मिलकर वे तस्करी और शोषण के शिकार लोगों के लिए आवश्यक सुरक्षा सामग्री, चिकित्सा, कानूनी और मनोवैज्ञानिक मदद दे रहे हैं और उनकी कठिनाइयों में उनका साथ दे रहे हैं।”

सरकार का ध्यान हटना

162 सदस्य संगठनों वाले काथलिक परिसंघ और तस्करी विरोधी ईसाई नेटवर्क का कहना है कि सरकारों ने वैश्विक महामारी में लोगों के स्वास्थ्य के प्रति ध्यान केंद्रित किया है, लेकिन प्रवासियों और अनौपचारिक श्रमिकों, पर विशेष रूप से पर्याप्त ध्यान नहीं दिया गया है। उनपर तस्करी और शोषण के मामले सामने आ रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय कारितास और कोटनेट ने अनौपचारिक क्षेत्रों में जैसे कि घरेलू काम, कृषि और निर्माण कार्य में संलग्न श्रमिकों की मदद करने करने के लिए तत्काल और लक्षित उपायों का आह्वान किया है।

40 मिलियन लोगों की तस्करी

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन ( आइएलओ) के अनुसार, आज हमारी दुनिया में 40 मिलियन से अधिक लोग हैं जो मानव तस्करी और शोषण का शिकार हैं। कोविद-19 के प्रसार को रोकने के लिए सरकारी उपायों के परिणामस्वरूप पहले से आवासहीन और नौकरी के बिना लोगों के संकट और बढ़ गये हैं।

लॉकडाउन और यात्रा प्रतिबंधों के कारण कई देशों में मानव तस्करी पीड़ितों को अपनी इच्छा के विपरीत स्थितियों से बचने और मदद पाने की कम संभावना होती है। उनमें से कई, यौन शोषण के लिए तस्करी के शिकार हैं। घरेलू कामगारों के आर्थिक और शारीरिक और मनोवैज्ञानिक रूप से जोखिमों को बढ़ा दिया है, क्योंकि वे महामारी के दौरान समाज से और भी अधिक कट गए हैं। मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका के क्षेत्रीय कारितास कार्यालय के अध्यक्ष गाब्रियल हत्ती ने लेबनान और अन्य मध्य पूर्व के देशों में कई फ़िलिपिनो और अन्य विदेशी श्रमिकों द्वारा अनुभव की गई कठिन स्थिति को उजागर किया है, जो कोविद-19 और वर्तमान आर्थिक संकट की वजह से अपनी नौकरी खोने के बाद घर लौटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। कोविद-19 महामारी में वे अब सामाजिक या मनोवैज्ञानिक सुरक्षा के बिना, अपने दूतावासों के सामने लाइन लगा रहे हैं और उनमें से कई के पास उचित दस्तावेज भी नहीं है।”

बच्चों पर हिंसा

अन्य जोखिमों में बच्चों के खिलाफ बढ़ती हिंसा है। बच्चों का ऑनलाइन शोषण किया जाता है यदि माता-पिता की देख-रेख के बिना या बहुत कम देख-रेख में बच्चों को घर पर ऑनलाइन क्लास दिया जाता हैं। उदाहरण के लिए भारत में लॉकडाउन के दौरान, बाल शोषण के 92,000 मामलों को केवल 11 दिनों के दौरान अधिकारियों को सूचित किया गया था। आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चों को भीख मांगने के लिए सड़कों पर मजबूर किया जा सकता है।

सरकारों के लिए विशिष्ट प्राथमिकताएं

महासचिव, अलोसियुस जॉन का कहना है कि “मानव तस्करी के पीड़ितों को तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है। कोविद-19 के इस समय में, अंतरराष्ट्रीय कारितास और कोटनेट  सरकारों से अनुरोध करते हैं कि वे उन्हें न्याय और बुनियादी सेवाओं तक पहुंच प्रदान करें, विशेष रूप से आश्रयों और हॉटलाइनों में। सूचना देने वाले क्षेत्रों में श्रमिकों का समर्थन करने के लिए तत्काल और लक्षित उपाय किए जाएं। हम इंटरनेट और न्यू मीडिया के माध्यम से भी बच्चों को दुर्व्यवहार और शोषण से बचाने के लिए संस्थानों और नागरिक समाज के संगठनों से मदद की मांग करते हैं और हम सभी लोगों को सतर्क रहने और मानव तस्करी और शोषण के मामलों का खंडन करने हेतु आह्वान करते हैं।ʺ

वैश्विक नेटवर्कः कोटनेट

www.coatnet.org कोटनेट 46 ईसाई संगठनों का नेटवर्क है जो मानव तस्करी का मुकाबला करने में लगे हुए हैं। यह एक वैश्विक नेटवर्क है और इसमें कारितास, अन्य काथलिक कलीसियाई संगठन जैसे धर्माध्यक्षीय सम्मेलन और धर्मसंघीय समुदाय और अन्य ईसाई संप्रदायों के संगठन शामिल हैं। यह नेटवर्क अपने सदस्यों को ज्ञान और अनुभव का आदान-प्रदान करने के साथ-साथ, सदस्यों की ओर से संयुक्त कार्यों और वकालत विकसित करने का अवसर प्रदान करता है।  

29 July 2020, 14:21