खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस और कार्डिनल ग्रेसियस संत पापा फ्राँसिस और कार्डिनल ग्रेसियस 

मुम्बई महाधर्माध्यक्ष कार्डि. ग्रेसियस की सेवा जारी

भारत में कलीसिया के नेताओं ने संत पापा फ्राँसिस द्वारा कार्डिनल ओसवाल्ड ग्रेसियस को मुम्बई महाधर्मप्रांत के महाधर्माध्यक्ष के रूप में सेवा जारी रखने के आदेश का स्वागत किया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

 मुम्बई, बुधवार 29 जनवरी, 2020 (मैटर्स इंडिया) : "यह अच्छी खबर है। हम मुम्बई के महाधर्माध्यक्ष के रूप में कार्डिनल ग्रेसियस की सेवा अवधि बढ़ाये जाने का स्वागत करते हैं।” धर्माध्यक्ष ऑल्विन डीसिल्वा ने संत पापा के फैसले का अपनी प्रतिक्रिया देते हुए 28 जनवरी को मैटर्स इंडिया को बताया। कार्डिनल ग्रेसियस ने 30 नवंबर, 2019 को संत पापा को धर्माध्यक्षीय पद से इस्तीफा सौंप दिया था, क्योंकि उसी वर्ष 24 दिसंबर को 75 साल पूरे करने वाले थे।

लोकधर्मियों की प्रेरिताई हेतु बनी परमधर्मपीठीय धर्मसंघ द्वारा भेजे गये पत्र में संत पापा ने कार्डिनल ग्रेसियस को मुम्बई के महाधर्माध्यक्ष के रुप में अपनी सेवा जारी रखने को कहा, जब तक कि अन्य प्रावधान नहीं किए जाते।

6 दिसंबर को भेजे गये पत्र में धर्मसंघ ने मुम्बई की कलीसिया, भारत और विश्व व्यापी कलीसिया को दी गई सेवा के प्रति कार्डिनल ग्रेसियस का आभार व्यक्त किया। परमधर्मपीठीय धर्मसंघ के प्रीफेक्ट कार्डिनल फिलोनी फेरनान्दो ने कार्डिनल ग्रेसियस के प्रति अपना व्यक्तिगत सम्मान और स्नेह व्यक्त किया।

मुम्बई महाधर्मप्रांत के सहायक धर्माध्यक्षों में से एक धर्माध्यक्ष ऑल्विन डीसिल्वा ने कहा कि मुंबई के काथलिकों को कार्डिनल ग्रेसियस की क्षमता, ज्ञान और भारत तथा विश्वव्यापी कलीसिया के गहरे अनुभव के कारण उनकी सेवा जारी रखने की उम्मीद थी।

पर्यावरणविद कार्डिनल ग्रेसियस को "एक प्रभावी आध्यात्मिक नेता के रूप में सम्मान दिया जाता है। कार्डिनल ग्रेसियस ने साहस और विवेक के साथ भारतीय कलीसिया का मार्गदर्शन किया है।"

संत पापा फ्राँसिस के छः सलाहकारों में से एक, कार्डिनल ग्रेसियस हैं। वर्तमान में वे भारतीय काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष भी हैं।

29 January 2020, 16:16