खोज

Vatican News
इटली के नेपल्स शहर की एक इमारत पर मानवाधिकार योद्धा मार्टिन लूथर किंग इटली के नेपल्स शहर की एक इमारत पर मानवाधिकार योद्धा मार्टिन लूथर किंग   (ANSA)

मार्टिन लूथर किंग जूनियर की जयन्ती पर धर्माध्यक्ष गोम्ज़

अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष धर्माध्यक्ष होसे गोम्ज़ ने मार्टिन लूथर किंग जूनियर की 91 वीँ जयन्ती के उपलक्ष्य में इस बात पर गहन दुख व्यक्त किया कि अभी भी अमरीका किंग जूनियर द्वारा दर्शाये मार्ग से बहुत दूर है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

वाशिंगटन, शुक्रवार, 17 जनवरी 2020 (रेई,वाटिकन रेडियो): अमरीकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष धर्माध्यक्ष होसे गोम्ज़ ने मार्टिन लूथर किंग जूनियर की 91वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में इस बात पर गहन दुख व्यक्त किया कि अभी भी अमरीका किंग जूनियर द्वारा दर्शाये मार्ग से बहुत दूर है। मार्टिन लूथर किंग का जन्म 15 जनवरी सन् 1929 ई. को अमरीका के अटलान्टा में हुआ था।

अमरीका किंग के सपनों से बहुत दूर

उन्होंने कहा, "एक बार फिर हम खेदवश इस तथ्य के प्रति सचेत हैं कि हम अमरीका के लिये रेव्ह. मार्टिन लूथर किंग जूनियर द्वारा देखे गये सपनों से अभी भी बहुत दूर हैं, जिन्होंने अमरीका को एक प्रेमपूर्वक समुदाय बनाने के लिये अपने प्राणों की आहुति दे दी थी।

समाज में अन्याय सहनेवालों के प्रति मार्टिन लूथर किंग की एकत्मता के लिये धर्माध्यक्ष ने धन्यवाद ज्ञापित किया किन्तु इस तथ्य को रेखांकित किया कि अभी भी अमरीका में बहुत से लोग नस्लवाद एवं भेदभाव के शिकार बनाये जाते हैं तथा देश की सड़कों पर अनेक अश्वेत युवाओं को या तो मार दिया जाता है अथवा अकारण उन्हें सलाखों के पीछे बंद कर दिया जाता है। उन्होंने कहा, "दुर्भाग्यवश, अमरीकी शहरों के वे अँचल जहाँ अश्वेत अल्यपसंख्यक निवास करते हैं अभी भी निर्धनता के टापू बने हुए हैं, वे वैसे ही हैं जैसे वे रेव्ह. किंग के समय में थे।"  

यथार्थ मनपरिवर्तन की ज़रूरत

उन्होंने कहा, "हाल के वर्षों में हमने नस्लवाद को बढ़ते देखा है, यहूदी विरोधी हमलों में वृद्धि हुई है, श्वेत राष्ट्रवाद का भद्दा प्रदर्शन होता रहा है, स्पानी मूल के लोगों तथा आप्रवासियों के खिलाफ हिंसा को बढ़ते देखा है।"

धर्माध्यक्ष गोम्ज़ ने कहा कि आज अमरीका को ज़रूरत है एक यथार्थ मन परिवर्तन की, ऐसा मन परिवर्तन जो अमरीकी समाज में सकारात्मक परिवर्तन ला सके। ऐसे अमरीका का पुनर्निर्माण जिसमें सभी स्त्री-पुरुषों का सम्मान ईश सन्तान रूप में किया जाये, ऐसा अमरीका जहाँ रंग, नस्ल और धर्म का भेदभाव किये बिना सबको समान अधिकार मिल सकें।

17 January 2020, 12:13