खोज

Vatican News
पीड़ित परिवार से मिलते हुए कार्डिनल रंजीत पीड़ित परिवार से मिलते हुए कार्डिनल रंजीत 

कार्ड. रंजीत द्वारा हमलों में बचे लोगों से मुलाकात करने की अपील

कोलंबो के महाधर्माध्यक्ष क्रिसमस की पूर्व संध्या और दिन के पवित्र मिस्सा के लिए पुलिस सुरक्षा की मांग की है। उन्होंने विश्वासियों से आग्रह किया है कि पीड़ित परिवार और दोस्तों को खोने वाले लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हुए क्रिसमस के भव्य उत्सव से बचें। क्रिसमस का सही अर्थ "एकता और साझाकरण" है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोलंबो, शनिवार 21 दिसम्बर 2019 (एशिया न्यूज) : कोलंबो के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल माल्कम रंजीत ने अपना क्रिसमस संदेश जारी किया। इसमें उन्होंने सभी ख्रीस्तियों से पीड़ितों के परिवारों और ईस्टर संडे के हमलों में बचे लोगों से मिलने का आग्रह किया है। उन्होंने त्योहार में भव्य और बेहिसाब खर्चों से बचने के लिए कहा। क्रिसमस का वास्तविक अर्थ को स्पष्ट करते हुए कहा, ईश्वर जो दुनिया के उद्धार के लिए मसीह में मनुष्य बन गये।

श्रीलंका में ख्रीस्तीय समुदाय की सुरक्षा के बारे में चिंतित, काथलिक कलीसिया की ओर से कार्डिनल, ने अधिकारियों से देश के गिरजाघऱों की सुरक्षा के लिए अधिक सुरक्षा उपाय करने का भी मांग की है। उन्होंने पूजा स्थलों के खिलाफ नए हमलों की संभावना के रिपोर्टों के आधार पर मांग किया।

अपनी तरफ से, श्रीलंकाई सरकार ने 21 अप्रैल जैसे हमलों को रोकने के लिए जिसमें 263 लोग मारे गए, गिरजाघरों की रक्षा के लिए अधिक सुरक्षा दल तैनात करने का वादा किया है।

कार्डिनल रंजीत ने सभी लोगों से इस वर्ष के क्रिसमस त्योहार को सादगी में अर्थपूर्ण तरीके से मनाने की अपील की। इस्टर संडे में जिन परिवारों ने अपने प्रियजनों को या अपने मित्रों को खोया वे अभी भी बड़ी वेदना से गुजर रहे हैं और उनकी कमी का एहसास करते हैं। कुछ घायल लोग अभी भी सदमें से उबर नहीं पाये हैं। अनाथ छोटे बच्चों के माता-पिता कभी भी उनके पास लौटकर नहीं आयेंगे।

 ऐसे समय में हमारा फर्ज बनता है कि हम सादगी के साथ उत्सव मनाते हुए उनके लिए प्रार्थना करें। उनके पास जाकर शांति के राजकुमार के प्रेम को बांटें। हमारी मातृभूमि श्रीलंका में रहने वाले विभिन्न समुदायों के बीच शांति, सद्भाव और मेल-मिलाप के लिए खुद को प्रतिबद्ध करें और प्रार्थना करें।

 नेगोंबो में स्थानीय अंतरधार्मिक समिति ने तमिल और सिंघली में पम्फलेट बांटते हुए सड़क पर एक नाटक किया। पम्फलेट में लिखा था, "आइए, एकता और साझा करने के सच्चे क्रिसमस संदेश का साक्ष्य देते हुए पूरी दुनिया के लिए एक अच्छा उदाहरण बनें।”

"लोगों को बताएं कि सांता क्लॉज़ न तो अभिनेता हैं, न ही कठपुतली, न ही शराबी आदमी और न ही पैसा वसूलने वाला।"

"आइये, सभी - हिंदू, मुस्लिम, बौद्ध, सिक्ख और ईसाई - एक साथ मिलकर इस वर्ष 2019 का क्रिसमस सही अर्थ में मनायें। आइए, हम दुनिया को दिखायें कि हम विभिन्न जातीय समूहों से संबंधित होने के बावजूद भी एकसाथ आनंद मनाते हैं।”

21 December 2019, 14:18