खोज

Vatican News
ईराक में प्रदर्शन ईराक में प्रदर्शन  (AFP or licensors)

ईराक के कार्डिनल द्वारा प्रार्थना और उपवास का आह्वान

कार्डिनल लुईस रफाएल प्रथम साको ने सभी ख्रीस्तियों का आह्वान किया है कि जब ईराक में नये प्रदर्शन एवं हिंसा हो रहे हैं वे शांति के लिए प्रार्थना करें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

ईराक, मंगलवार, 12 नवम्बर 2019 (रेई)˸ ईराक में खलदेई काथलिक कलीसिया के शीर्ष ने देश की शांति के लिए विश्वासियों को तीन दिनों के उपवास एवं प्रार्थना का आह्वान किया है।

कार्डिनल साको ने निमंत्रण देते हुए कहा है, "खलदेई कलीसिया के सभी पुत्र-पुत्रियाँ 11 से 13 नवम्बर तक उपवास एवं प्रार्थना करें।" कार्डिनल साको उपवास एवं प्रार्थना को अव्यवस्था एवं हिंसा को समाप्त करने का एक मजबूत हथियार मानते हैं।

हजारों ईराकी 1 नवम्बर से ही सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। उनकी मांग है कि सरकार उन्हें अधिक नौकरी और बेहतर सार्वजनिक सेवा प्रदान करे एवं राजनीतिक भ्रष्टाचार को समाप्त करे। प्रदर्शन के दौरान पुलिस बल के साथ टकराव में अब तक करीब 320 लोगों की मौत हो चुकी है।  

कार्डिनल ने ईराक की सरकार से भी शांति स्थापित करने की अपील की है और सरकार एवं प्रदर्शनकारी दोनों से मांग की है कि वे विवेक एवं समझदारी से काम लें। उन्होंने कहा है कि पूरे ईराक के लोगों के आमहितों को प्राथमिकता दी जाए। कार्डिनल ने निर्दोष लोगों के खून बहाये जाने तथा निजी एवं सार्वजनिक दोनों ही क्षेत्रों में हुए संसाधनों की क्षति पर खेद प्रकट किया है।  

खलदेई काथलिक कलीसिया की स्थापना प्रेरित संत थॉमस द्वारा प्रथम शताब्दी में ही की गयी थी। खलदेई कलीसिया औपचारिक रूप से 1552 में काथलिक कलीसिया के साथ जुड़ी।  

कार्डिनल लुईस रफाएल प्रथम साको 2013 से ही बेबीलोन के खलदेई कलीसिया के प्राधिधर्माध्यक्ष हैं तथा संत पापा फ्राँसिस ने उन्हें 2018 में कार्डिनल बनाया है।

12 November 2019, 16:53