खोज

Vatican News
कार्डिनल जॉर्ज पेल कार्डिनल जॉर्ज पेल  

कार्डिनल पेल को दुर्व्यवहार की सजा की अपील करने की अनुमति

ऑस्ट्रेलिया की सर्वोच्च अदालत कार्डिनल जॉर्ज पेल की अपील पर सुनवाई करेगी जिसे उन्होंने सितंबर में मांगी थी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

ऑस्ट्रेलिया,बुधवार 13 नवम्बर 2019 (रेई) : ऑस्ट्रेलियाई उच्च न्यायालय ने बुधवार,13 नवम्बर को फैसला सुनाया कि वह कार्डिनल जॉर्ज पेल को दो नाबालिग लड़कों के यौन उत्पीड़न के लिए पहले की सजा की अपील करने की अनुमति देती है। कथित तौर पर 1996 में मेलबर्न के महागिरजाघर के साक्रिस्टी में हुआ था, उस समय वे स्थानीय महाधर्माध्यक्ष थे।

कार्डिनल पेल को नाबालिगों के यौन शोषण के आरोपों में फरवरी में दोषी ठहराया गया था। परंतु उन्होंने हमेशा अपनी मासूमियत को बनाए रखा है।

पहला परीक्षण एक पंचायत में समाप्त हुआ, दूसरे जूरी ने सर्वसम्मति से उन्हें दोषी ठहराया।

सितंबर में अंतिम अपील पेश करने पर, कार्डिनल पेल के वकीलों ने ऑस्ट्रेलियाई राज्य विक्टोरिया के सर्वोच्च न्यायालय के तीन न्यायाधीशों में से एक, जस्टिस मार्क वेनबर्ग की असहमतिपूर्ण राय पर मामले को पलट दिया।

सजा की अपील करने का यह कार्डिनल पेल का आखिरी मौका होगा।

ऑस्ट्रेलियाई धर्माध्यक्षीय सम्मेलन का बयान

ऑस्ट्रेलियाई धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष, महाधर्माध्यक्ष मार्क कोलरिज ने एक बयान में कहा, "सभी ऑस्ट्रेलियाई लोगों को उच्च न्यायालय में सजा की अपील करने का अधिकार है। कार्डिनल जॉर्ज पेल ने उस अधिकार का प्रयोग किया है और उच्च न्यायालय ने यह निर्धारित किया है कि उनका दोष उसके विचार में है।"

महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि, "यह एक लंबी और कठिन प्रक्रिया होगी, लेकिन हम यह उम्मीद करते हैं कि अपील जल्द से जल्द सुनाई जाएगी और उच्च न्यायालय का फैसला स्पष्टता और सभी के लिए एक समाधान लाएगा।"

परमधर्मपीठ द्वारा उच्च न्यायालय के फैसले को स्वीकार

वाटिकन प्रेस कार्यालय के निदेशक मत्तेयो ब्रूनी ने एक बयान में कहा कि ऑस्ट्रेलियाई न्याय प्रणाली में अपने विश्वास को दोहराते हुए, परमधर्मपीठ ने कार्डिनल कार्डिनल जॉर्ज पेल के अपील को स्वीकार करने के लिए ऑस्ट्रेलिया के उच्च न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया। उच्च न्यायालय इस बात से बाकिफ है कि कार्डिनल जॉर्ज पेल ने हमेशा अपनी बेगुनाही को बनाए रखा है। साथ ही,परमधर्मपीठ ने याजकों की ओर से यौन शोषण के कारण पीड़ित लोगों के प्रति एक बार फिर अपनी निकटता की पुष्टि की है।

13 November 2019, 16:42