खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (2018 Getty Images)

यूएससीसीबी अध्यक्ष द्वारा शरण सीमित नये नियमों की कड़ी निंदा

अमेरिकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष ने होमलैंड सिक्योरिटी विभाग द्वारा घोषित आव्रजन प्रवर्तन कार्रवाइयों में भय के माहौल और प्रशासन के नए नियम की निंदा की।

माग्रेट सुनता मिंज-वाटिकन सिटी

वॉशिंगटन, बुधवार, 17 जुलाई 2019 (रेई) : अमेरिकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष कार्डिनल दानियल दिनार्दो ने होमलैंड सिक्योरिटी विभाग द्वारा घोषित आव्रजन प्रवर्तन कार्रवाइयों में भय के माहौल और प्रशासन के नए नियम जो काफी हद तक शरणार्थियों के प्रवेश को सीमित कर देता है, के जवाब में निम्नलिखित बयान दिया।

नया नियम अस्वीकार्य

इमिग्रेशन एंड कस्टम्स इंफोर्समेंट एजेंसी द्वारा इस सप्ताह की गई प्रवर्तन कार्रवाई में  हजारों बच्चों को उनके माता-पिता से अलग कर दिया गया। यह अस्वीकार्य है और हमारे समुदायों में व्यापक आतंक पैदा करती है। मैं ऐसे दृष्टिकोण की निंदा करता हूँ, जिसने देश भर में हमारी पल्लियों और समुदायों में डर पैदा कर दिया है। मैंने हाल ही में राष्ट्रपति को पत्र लिखकर इस कार्रवाई पर पुनर्विचार करने को कहा है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में शरण लेने आये हुए मध्य अमेरिकी लोगों को भागना पड़ रहा है। यह गुमराह करने वाली और असमर्थनीय दोनों है। अपने जीवन को बचाने और अपने परिवारों की सुरक्षा के लिए पलायन कर रहे लोगों को यहां प्रवेश करने से रोकने का प्रयास, अमेरिकी और ख्रीस्तीय मूल्यों के विपरीत है।

भय के इस माहौल में, हमने देखा है कि आज प्रशासन संयुक्त राज्य अमेरिका में सुरक्षा की तलाश में आये व्यक्तियों और परिवारों की क्षमता को कम करने के लिए अस्वीकार्य कार्रवाई कर रहा है। प्रशासन का नया नियम शरणार्थियों के जीवन रक्षक सुरक्षा तक पहुँचने की क्षमता में और अधिक बाधाएँ जोड़ता है और हमारे नैतिक कर्तव्य को सीमित कर देता तथा संयुक्त राज्य अमेरिका को शरण सुरक्षा के प्रदाता के रूप में अंतरराष्ट्रीय समुदाय में अपनी सामान्य अग्रणी भूमिका लेने से रोकता है। इसके अलावा, अभी भी नियम की समीक्षा करते हुए, प्रारंभिक विश्लेषण इसकी वैधता पर गंभीर सवाल उठाता है।

राष्ट्रपति से अपील

मैं राष्ट्रपति से इन कार्रवाइयों, नए नियम पर पुनर्विचार करने का आग्रह करता हूँ। मैं अपील करता हूँ कि अपने जीवन की सुरक्षा हेतु अपने देश से पलायन किये हए लोगों को अमेरिका में शरण लेने की अनुमति दी जानी चाहिए। उन सभी को हटाने की कार्यवाही का सामना करना पड़ रहा है जो उचित प्रक्रिया का खर्च उठा सकते हैं। हमारी सीमाओं पर रहने वाले सभी लोगों के साथ दया और सम्मान के साथ पेश आना चाहिए। इसके अलावा, इस मानवीय संकट के मूल कारणों के उचित समाधान पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जो परिवारों को पलायन करने के लिए मजबूर करते हैं।

संत पापा फ्राँसिस ने ‘प्रवासियों और शरणार्थियों के विश्व दिवस 2019’ के अपने संदेश में, हमें याद दिलाया है कि “प्रवासियों और शरणार्थियों तथा सामान्य रूप से कमजोर लोगों की उपस्थिति - हमारे ख्रीस्तीय अस्तित्व और उन आवश्यक आयामों में से कुछ को पुनर्प्राप्त करने का निमंत्रण है जिसे समृद्ध समाज अनदेखा कर देता है।''

17 July 2019, 16:12