Vatican News
जोलो का महागिरजाघर जहाँ बम विस्फोट हुआ था जोलो का महागिरजाघर जहाँ बम विस्फोट हुआ था  (ANSA)

जोलो के महागिरजाघर का पुनःप्रतिष्ठापन

27 जनवरी को दो आत्मघाती हमलावरों द्वारा जोलो के महागिरजाघर के अंदर और बाहर दो बम विस्फोट कर, आक्रमण किये गये थे जिसमें 21 लोग मारे गये थे और करीब 80 लोग घायल हुए थे। यह देश के इतिहास में एक बड़ी घटना थी।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

फिलीपींस, बृहस्पतिवार, 18 जुलाई 19 (रेई)˸ जोलो द्वीप एवं पूरे दक्षिणी फिलीपींस पर कलीसिया का भविष्य कार्मेल की कुँवारी मरियम की छत्र-छाया पर निर्भर है। इसी भावना से 16 जुलाई को कार्मेल की कुँवारी मरियम का पर्व मनाते हुए जोलो के महागिरजाघर को छः महीने बाद पुनः खोला गया एवं उसे प्रतिष्ठापित किया गया।

27 जनवरी को दो आत्मघाती हमलावरों द्वारा जोलो के महागिरजाघर के अंदर और बाहर दो बम विस्फोट कर, आक्रमण किये गये थे जिसमें 21 लोग मारे गये थे और करीब 80 लोग घायल हुए थे। यह देश के इतिहास में एक बड़ी घटना थी।

माऊण्ड कार्मेल को समर्पित महागिरजाघर में 16 जुलाई का ख्रीस्तयाग

जोलो द्वीप के काथलिक समुदाय के लोग (करीब 25 हजार विश्वासी, जहाँ 1.7 मिलियन मुस्लिम रहते हैं) 16 जुलाई को एक साथ मिले और माऊण्ड कार्मेल की कुँवारी मरियम के महागिरजाघर में ख्रीस्तयाग अर्पित किया। वहाँ का प्रेरितिक विकारियेट भी माऊण्ड कार्मेल की कुँवारी मरियम को समर्पित है जिसके प्रेरितिक प्रशासक हैं फादर रोमेओ सानिएल (ओएमआई)। ख्रीस्तयाग का अनुष्ठान फिलीपींस के प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष गाब्रिएल काच्चा एवं फिलीपींस के धर्माध्यक्षों द्वारा अर्पित किया गया।

विश्वासियों का आनन्द

समारोह में उपस्थित धर्माध्यक्ष, पुरोहित एवं विश्वासियों ने महागिरजाघर के पुनः प्रतिष्ठापन पर खुशी जाहिर की। आक्रमण के कारण महागिरजाघर को गंभीर क्षति हुई थी। जिसको काथलिक संगठनों एवं अंतरराष्ट्रीय दान दाताओं की सहायता से मरम्मत कर पुनः खोला गया है।

महाधर्माध्यक्ष अंजेलितो लाम्पोन ने फिदेस से कहा, "आज हमारा मिशन है इस्लामिक बहुलता के साथ सामाजिक और सांस्कृतिक परिवेश में सुसमाचार को जीना, उसका प्रचार करना और साक्ष्य देना। हम हमारे जीवन को हर दिन ईश्वर के हाथों समर्पित करते हैं और अपने आपको उनकी इच्छा पर छोड़ देते हैं एवं अन्य धर्मों के विश्वासियों के साथ वार्ता एवं शांति पूर्ण सह-अस्तित्व के मिशन को जारी रखते हैं। यह शांति मिशन सुसमाचार का दृश्यमान चिन्ह है जो शांति, मेल-मिलाप एवं करूणा की घोषणा करता और उसका साक्ष्य देता है।

18 July 2019, 16:59