खोज

Vatican News
 दिवाल के नीचे फंसे हुए लोगों का वचाव कार्य दिवाल के नीचे फंसे हुए लोगों का वचाव कार्य  (ANSA)

दीवार ढहने से 18 की मौत, संत जूड पल्ली द्वारा राहत कार्य जारी

मुंबई के उत्तरी मलाड पूर्व में एक दीवार ढह गई है। त्रासदी के स्थान के ठीक बगल में संत जूड गिरजाघर है। पूरे महाधर्मप्रांत के काथलिकों ने प्रभावित लोगों की आर्थिक रूप से और बुनियादी आवश्यकताओं के वितरण में मदद की है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मुंबई, बुधवार, 3 जुलाई 2019 (एशिया न्यूज) : मुंबई के उत्तरी उपनगर मलाड पूर्व में एक दीवार के ढहने से कम से कम 18 लोग मारे गए और 50 लोग घायल हो गए। दो दिनों से लगातार बारिश की वजह से कल मंगलवार को यह घटना हुई।  

संत जूड गिरजाघर के निकट रहने वाले फादर वार्नर डिसूजा ने एशिया न्यूज को बताया, “घटना के तुरंत बाद हम सभी मदद के लिए दौड़ पड़े। मुझे मोबइल में लगभग 300-400 संदेश मिले, जिन्होंने घायलों की मदद करने और उनकी देखभाल करने की इच्छा जाहिर की।”

फादर डिसूजा ने बताया कि दिवाल के ढह जाने के तुरंत बाद जूड पल्ली के करीब 800 लोग तुरंत बाहर आये और हर तरह से पीड़ितों की मदद करने लगे। हमने दिवाल के नीचे फंसे हुए लोगों को बचाया, घायलों को अस्पताल पहुंचाया और जरुरतमंद लोगों को रुपये भी दिये। पल्ली के विश्वासियों की प्रतिक्रिया बहुत ही सराहनीय थी।”

घटना के तुरंत बाद पड़ोसी पल्ली ‘लूर्द का माता मरियम’ के ख्रीस्तीय मदद के लिए आये। आज सुबह," साढ़े पांच के आसपास भोजन, छतरियां, टॉर्च और रेनकोट वितरित किया।

घटना की आखिरी पीड़िता, एक 12 वर्षीय लड़की के शरीर को आज सुबह मलबे के नीचे से निकाला गया।

इन दिनों शहर में बाढ़ से भरी सड़कें हैं। आवागमन ठप पड़ गया है। अनेक ट्रेनें निलंबित कर दी गई हैं और बारिश के कारण कुल मिलाकर तीस लोग मारे गये।

03 July 2019, 15:52