खोज

Vatican News
बेथलेहेम, येसु के जन्म (नैटिविटी) गिरजाघर का प्रवेश द्वार बेथलेहेम, येसु के जन्म (नैटिविटी) गिरजाघर का प्रवेश द्वार  (AFP or licensors)

बेथलेहेम का नैटिविटी गिरजाघर यूनेस्को की लुप्तप्राय सूची से बाहर

बेथलेहेम, येसु के जन्म (नैटिविटी) गिरजाघर अपनी जीर्ण स्थिति के कारण यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल का नाम दिया गया था और इसकी लुप्तप्राय सूची में रखा गया था। पर वर्षों के बारीकी मरम्मत के बाद उसे लुप्तप्राय सूची से निकाल दिया गया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

बेथलेहेम, बुधवार, 3 जुलाई 2019 (रेई) : बेथलेहेम, येसु के जन्म (नैटिविटी) गिरजाघर, उस स्थान पर बनाया गया जहां ख्रीस्तियों का मानना है कि वहाँ येसु का जन्म हुआ था, मंगलवार 2 जुलाई को यूनेस्को द्वारा लुप्तप्राय विश्व धरोहर स्थलों की सूची से हटा दिया गया था।

चर्च को 2012 में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल का नाम दिया गया था और इसकी खराब स्थिति के कारण उसी वर्ष इसकी लुप्तप्राय सूची में रखा गया था। यूनेस्को ने एक बयान में कहा कि गिरजाघर और फिलिस्तीनी अधिकारियों ने इन वर्षों में "छत, बाहरी भाग, मोज़ाइक और मुख्य दरवाजे पर" उच्च गुणवत्ता वाले काम कराये हैं।

बाकू में यूनेस्को की समिति एक बैठक के दौरान इसे लुप्तप्राय सूची से हटाने के निर्णय पर पहुंची, उनकी बैठक 30 जून से 10 जुलाई तक जारी रहेगी।

रोमन काथलिक कलसिया, ग्रीक ऑर्थोडॉक्स कलीसिया और अर्मेनियाई कलीसिया शहर में स्थित उस स्थल की निगरानी साझा करते हैं जो आज इजरायल के कब्जे वाले वेस्ट बैंक में फिलिस्तीनी प्राधिकरण के नियंत्रण में है।

प्रारंभिक गिरजाघर चौथी शताब्दी में वहां बनाया गया था।

इसे छठी शताब्दी में एक नई संरचना के साथ बदल दिया गया था लेकिन मूल गिरजाघर के फर्श मोज़ाइक वैसे ही रखे गये हैं। बाद में गिरजाघर में परिवर्तन किए गए।

क्रिसमस के मौसम में, दुनिया भर के तीर्थयात्री गिरजाघर का दर्शन करने आते हैं। इसके भीतर के ग्रोटो को येसु का जन्मस्थान माना जाता है।

03 July 2019, 16:11