Cerca

Vatican News
पाकिस्तान के ख्रीस्तीय श्रीलंका के मृत ख्रीस्तीयों के लिए मोमबत्ती जलाते हुए पाकिस्तान के ख्रीस्तीय श्रीलंका के मृत ख्रीस्तीयों के लिए मोमबत्ती जलाते हुए  (AFP or licensors)

दुःख में श्रीलंका के साथ पाकिस्तान की कलीसिया

पाकिस्तान के कराची स्थित संत पैट्रिक महागिरजाघर के सैकड़ों विश्वासियों ने पास्का रविवार को आतंकी हमला के शिकार श्रीलंका के ख्रीस्तीयों के प्रति अपनी सहानुभूति प्रकट की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

कराची के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल जोसेफ कूट्टस् ने शांति और न्याय के लिए गठित आयोग द्वारा आयोजित ख्रीस्तयाग के दौरान कहा कि "हम श्रीलंका के लोगों की पीड़ा को गहराई से महसूस कर सकते हैं। यह दुखद है कि घृणा से भरे लोग इस तरह के अत्याचार को अंजाम दे रहे हैं।"  

पाकिस्तान एवं श्रीलंका की कलीसियाओं का निकट संबंध

विश्वासी समुदाय को सम्बोधित करते हुए कार्डिनल ने कहा, "हमारे विश्वास, हमारी प्रार्थना एवं हमारे हृदय द्वारा हम घायल लोगों के साथ पूरी तरह एक हैं। पाकिस्तान की कलीसिया का श्रीलंका की कलीसिया के साथ नजदीकी का रिश्ता है। कई मिशनरियों, पुरोहितों, धर्मबंधुओं, धर्मबहनों एवं प्रचारकों ने पाकिस्तान को अपनी सेवाएँ प्रदान की हैं तथा हमारे देश के विकाश हेतु अपने को समर्पित किया है।" कार्डिनल ने विगत छः वर्षों में श्रीलंका के मिशनरियों द्वारा उत्साह एवं समर्पण के साथ पाकिस्तान की सेवा पर ध्यान आकृष्ट किया और कहा, "उन्होंने पाकिस्तान की संस्थाओं में शिक्षा, स्वास्थ्य एवं तकनीकी शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया है। उन्होंने हमारे देश में अंतरधार्मिक सौहार्द को बढ़ाने के लिए बहुत अधिक योगदान दिया है।    

देश में शांति के लिए प्रार्थना

कार्डिनल ने कहा कि पास्का पर्व के दिन किया गया हमला श्रीलंका के इतिहास में एक अत्यन्त बुरा हमला था और दुःख की इस घड़ी में हमें उनके साथ खड़े होने की आवश्यकता है। हम श्रीलंका के लोगों के लिए प्रार्थना करते हैं, न केवल ख्रीस्तीयों के लिए बल्कि पूरे देश में शांति और स्थिरता के लिए विन्ती करते हैं। इस नरसंहार के मृतकों की याद में, श्रीलंका के प्रेरितिक दूतावास के महासचिव ने पहली मोमबत्ती जलाई, जिसके बाद पुरोहितों, धर्मबहनों और लोकधर्मियों ने भी मोमबतियाँ जलायीं। ख्रीस्तयाग के अंत में कराची के विश्वासियों ने पाकिस्तान में सेवारत श्रीलंका के पुरोहितों, धर्मबहनों एवं लोकधर्मियों से मुलाकात की।

संत पैट्रिक महागिरजाघर के रेक्टर ने फिदेस को बतलाया कि वे श्रीलंका में हमले की खबर सुन बहुत हैरान हुए। उन्होंने बतलाया कि वे श्रीलंका के लोगों एवं विश्व में शांति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।   

02 May 2019, 16:08