खोज

Vatican News
श्रीलंका बम पीडितों का दफन क्रिया श्रीलंका बम पीडितों का दफन क्रिया  (AFP or licensors)

श्रीलंका ख्रीस्तियों द्वारा बम विस्फोट की जांच की मांग

23 अप्रैल को, श्रीलंका की सुरक्षा को देखते हुए मृतकों को दफनाना शुरू कर दिया, सरकार खुफिया रिपोर्टों पर कार्रवाई करने में विफल रही। काथलिक स्कूल 29 अप्रैल तक बंद हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोलम्बो, बुधवार 24 अप्रैल 2019 (वाटिकन न्यूज) :  श्रीलंका में ईस्टर रविवार को बम विस्फोटों में 359 से अधिक लोग मारे गए, उनका पहला सामूहिक अंतिम संस्कार 23 अप्रैल को किया गया। देश के काथलिक धर्माध्यक्ष लोगों से शांत रहने और विवेक और संयम से काम लेने का आग्रह कर रहे हैं।

23 अप्रैल को राष्ट्रीय शोक दिवस घोषित किया गया और देश ने तीन मिनट का मौन रखकर पीड़ितों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान राष्ट्रीय ध्वज झुका दिये गए। यह रस्मी शोक सुबह साढ़े आठ बजे शुरू हुआ।

सरकार ने आत्मघाती बम विस्फोटों के लिए स्थानीय इस्लामवादी समूह नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) को दोषी ठहराया है, जिन्होंने तीन गिरजाघरों और पर्यटकों से भरे तीन लक्जरी होटलों में विस्फोट किया है।

इस्लामिक स्टेट समूह ने मंगलवार को अपनी अमाक समाचार एजेंसी के माध्यम से हमलों के लिए जिम्मेदारी का दावा किया, लेकिन कोई सबूत नहीं दिया।

बम विस्फोट दो काथलिक गिरजाघर में हुए, कोलम्बो में संत अंतोनी का तीर्थ और नेगोंबो में संत सेबास्टियन गिरजाघर। एक अन्य विस्फोट पूर्वी तटीय शहर बैटलिकलोआ के इवांजेलिकल सियोन गिरजाघर में हुआ। इस गिरजाघर में भी कई लोगों की जान चली गई।

2009 में गृहयुद्ध समाप्त होने के बाद से द्वीप में यह सबसे खराब हिंसा है जिसमें लगभग 500 लोग घायल हो गए, आज की ताजा खबर अनुसार, मरने वालों की संख्या 359 हो गई।

जाँच की मांग

श्रीलंका की काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सीबीसीएसएल) उम्मीद करती है कि सरकार तत्काल जांच करायेगी। उन्होंने नागरिकों से शांत रहने का आग्रह किया।

सीबीसीएसएल के अध्यक्ष बडुल्ला के धर्माध्यक्ष विंस्टन फर्नांडो ने कहा, "देश सभी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करें।"

"बात यह है कि गिरजाघर में हमला उस समय हुआ था जब लोग ईस्टर के सबसे पवित्र पर्व की धर्मविधि में थे," उन्होंने कहा, "वास्तव में एक क्रूर कार्य है जो बेहद दर्दनाक है।"

निराश करने वाला नेतृत्व

सीबीसीएसएल के अध्यक्ष ने संकट से निपटने में सरकार के प्रति निराशा व्यक्त की। उनकी राय में, धारावाही हमलों के बारे में चेतावनी के बावजूद, देश की खुफिया जानकारी विफल रही है।

कोलंबो के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल माल्कम रंजीत ने चिंता व्यक्त की कि अधिकारियों ने संभावित आतंकी हमलों की पूर्व सूचना प्राप्त करने के तुरंत बाद कार्रवाई नहीं की है।

उन्होंने 22 अप्रैल को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "देश खुफिया सेवाओं को मजबूत करें, हमें सूचित किया गया था कि अगर सरकार ने पूर्व सूचना पर कार्रवाई की होती तो ईस्टर रविवार के हमलों से बचा जा सकता था।"

कार्डिनल रंजीत ने नागरिकों से कानून को अपने हाथ में न लेने और अन्य धर्मों के व्यक्तियों को नुकसान पहुंचाने से परहेज करने का भी आग्रह किया।

24 April 2019, 16:03