खोज

Vatican News
आदिवासी युवाओं की विश्व बैठक का लोगो आदिवासी युवाओं की विश्व बैठक का लोगो 

पानामा विश्व युवा दिवस के पहले आदिवासी युवाओं की विश्व बैठक

विश्व युवा दिवस की तैयारी में, दो धर्मसभाओं को देखते हुए, प्रार्थना करने और चर्चा करने के लिए दुनिया भर से एक हजार आदिवासी युवा एकत्रित हुए हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

पानामा,बुधवार 16 जनवरी (वाटिकन न्यूज): पानामा में डेविड धर्मप्रांत के सोलो में कल 17 जनवरी से विश्व भर से 1000 से अधिक आदिवासी युवाओं की पहली विश्व बैठक शुरु होगी और 21 जनवरी तक चलेगी। पनामा के महाधर्माध्यक्ष जोस डोमिंगो उलोया ने 1000 से अधिक युवाओं की भागीदारी की पुष्टि करते हुए वाटिकन संवाददाता मास्सीमिल्यानो मिनिकेत्ती को साक्षात्कार में बताया।

विश्व युवा दिवस में भाग लेने से पहले वे एक हजार साल की संस्कृति और ख्रीस्तीय आशा को साझा करेंगे। सम्मेलन में मुख्य रुप से प्रार्थना के लिए विशेष समय दिया जाएगा साथ ही होगी, भूमि की रक्षा के मोर्चों पर लगे साथियों की गवाही सुनने और धरती के अंधाधुंध शोषण के खिलाफ कार्यवाही और गतिविधियों को साझा करने के लिए भी पर्याप्त समय दिया जाएगा। युवा कुध गांवों और तीर्थस्तथानों का दौरा भी करेंगे।

क्राकोव से पनामा तक

यह बैठक क्राकोव की विश्व युवा दिवस  की विरासत को एक साथ लाती है। जहाँ संत पापा फ्राँसिस ने विश्व के युवा लोगों को न केवल "अतीत की यादें" बनाने के लिए बल्कि "वर्तमान में साहस" और "भविष्य के लिए आशा" रखने के लिए आमंत्रित किया था।

आदिवासी युवाओं की पहली विश्व बैठक का लोगो में एक रंगीन चक्र के अंदर, एक पुआल झोपड़ी – आदिवासी लोगों का एक पारंपरिक घर - एक समुदाय का प्रतीक है। एक क्रूस जो मसीह का प्रतीक है हर विश्वासी की जीवन यात्रा को आशा से भर देता है। कोको और मकई भी है जो "कई मेसोअमेरिकन आबादी का पवित्र फल है।", "एम" शब्द से निकलने वाली जड़ों से धरती माता के साथ मजबूत बंधन को व्यक्त करता है और एक छोटा गिरगिट जो "अपनी महान विविधता में ईश्वर की संपूर्ण रचना का सम्मान करने के लिए आमंत्रित करता है।"।

‘लौदातो सी’ के मद्देनजर

हाल ही में युवाओं पर हुई धर्माध्यक्षों की धर्मसभा में संत पापा फ्राँसिस ने अपने विश्व प्रेरितिक पत्र ‘लौदातो सी’ में आदिवासी युवाओं के प्रेरितिक देखभाल के लिए उत्साहित किया। उनके इस पहल ने कलीसिया को जीवंत और उत्साह से भरा दिया है।

अमेज़न धर्मसभा की ओर

महाधर्माध्यक्ष जोस डोमिंगो ने बताया कि यह सम्मेलन प्रतीकात्मक रूप से विश्व युवा दिवस को खोलती है साथ ही यह अगले अक्टूबर में वाटिकन में आयोजित अमेजन धर्मसभा की ओर प्रलम्बित होती है। एक बैठक जो विश्वास की चुनौतियों पर ध्यान केंद्रित करेगी,साथ ही आदिवासियों के दैनिक जीवन की कठिनाइयों, खतरों और आशाओं को भी व्यक्त करेगी, जैसा कि संत पापा ने पिछले साल जनवरी में प्यूर्टो मालडोनाडो में कहा था: "हमें मूल रूप से  स्थानीय आदिवासियों की आवश्यकता है जो अपनी संस्कृति के अनुरुप अमेज़ॅन कलीसिया का विकास कर सकें। संत पापा ने उन आर्थिक लाभ की निंदा की जहाँ भूमि और व्यक्ति का सम्मान नहीं होता।

16 January 2019, 15:26